राहुल गांधी के हिन्दू व हिन्दुत्ववादी के बयान पर क्या बोल गये चतुर्वेदी

खुलासा न्यूज, बीकानेर। कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी खुद दसवीं की परीक्षा पास नहीं है और उनकी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की डिग्री को भी चैलेंज किया हुआ है। वो क्या हिन्दु-हिन्दुत्ववादी के मायने। वो खुद बता दे कि शायद वो पुरूष तो है किन्तु पुरूषोत्व नहीं। हमें गर्व है कि हम हिन्दु और हिन्दुवादी है। ये बात बीकानेर प्रवास पर आएं भाजपा पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी सर्किट हाउस में मीडिया से बातचीत करते हुए जयपुर में कांग्रेस की महारैली में राहुल गांधी द्वारा दिये गए भाषण पर पलटवार करते हुए कही। चतुर्वेदी ने कहा कि धारा 370 हटाना और राम मंदिर का निर्माण करना हिंदुत्व कहलाता है तो हम अपने-आप में गर्व महसूस करते है कि हमनें हिंदू में जन्म लिया और हिंदुत्व की भावना की पालना करते है। चतुर्वेदी ने महंगाई पर बोलते हुए कहा कि केन्द्र सरकार ने डीजल-पेट्रोल के वेट को कम कर आमजन को राहत दी। इसके अलावा राज्य सरकारों से भी डीजल व पेट्रोल की कीमतों को कम करने का आग्रह किया, लेकिन राजस्थान सरकार ने ऐसा नहीं किया, जिसके कारण देश में पेट्रोल-डीजल सबसे ज्यादा राजस्थान में महंगा है। राज्य सरकार के तीन वर्ष के कार्यकाल पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए चतुर्वेदी ने कहा कि सरकार के ये तीन साल सबसे ज्यादा खराब रहे। जिसमें महज अन्र्तकलह और सता की भूख के अलावा कुछ देखने को नहीं मिला। कांग्रेस कार्यकाल के तीन साल पूरे होने पर जश्न मना रही है। बड़े-बड़े विज्ञापन लगाकर अपने कामों की उपलब्धियां गिना रही है जबकि हालत यह है कि सरकार ने चुनावी घोषणा पत्र में जनता से कई वायदे किये, परंतु मुख्य पांच वायदों की बात करे तो वह भी इस सरकार ने पूरे नहीं किये। उन्होंने कहा कि राजस्थान में कानून व्यवस्था जर्जर है। राजस्थान वर्तमान में देश का पहला राज्य है जहां महिला दुष्कर्म के मामले सर्वोधिक है। प्रदेश में विकास कार्य पूरी तरह से ठप पड़े है। पिछली सरकार के जितने काम थे उन कामों के लिए जो टेंडर हुए उस पैसे को रोककर इस सरकार ने सरकारी कर्मचारियों की सैलेरी दे दी।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp