बीकानेर। सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले बच्चों को दाल-चावल या कढ़ी-चावल के अतिरिक्त अब हरी सब्जियां भी खाने को मिलेगी। इसमें पालक-मैथी, गाजर-मूली, चुकंदर आदि सब्जियां रहेगी। सर्द मौसम को ध्यान में रखते हुए मिड डे मील के अतिरिक्त आयुक्त ने जिला शिक्षा अधिकारियों को एक परिपत्र भेजकर इस संबंध में पाबंद किया है। इसमें स्कूलों में मिलने वाले दोपहर के भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियों की अधिकता शामिल के निर्देश दिए हैं।

मौसम के अनुकूल मैन्यू में किया बदलाव
आयुक्तालय से आदेश मिलने के बाद जिला शिक्षा अधिकारी ने समस्त संस्था प्रधानों को निर्देश देकर मिड डे मील योजना में मौसम के अनुसार हरी पत्तेदार सब्जियों को मैन्यू में शामिल करने को कहा है। आयुक्तालय के आदेश में बताया है कि मुख्यमंत्री के 100 दिवसीय कार्य योजना के तहत मिड डे मील की पौष्टिकता व गुणवत्ता को लेकर प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं।

हो रही मॉनिटरिंग
इस योजना के सफल सुव्यवस्थित क्रियान्वयन के लिए मॉनिटरिंग भी की जा रही है। आयुक्तालय ने पौष्टिक भोजन की उपलब्धता के लिए निर्देश दिए कि सर्दियों में हरी पत्तेदार सब्जियों की पैदावार प्रचुर मात्रा में होती है, जो बच्चों के स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभदायक हैं।

किचन गार्डन बनाने के आदेश
ऐसे में संस्था प्रधान मिड डे मील में हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, मैथी, बथुआ, गाजर, मूली, चकुंदर, आंवला सहित अन्य सब्जियों को दोपहर के भोजन में शामिल कर सकते हैं। विभाग ने इससे पूर्व स्कूल में खाली जगह पर किचन गार्डन बनाने के आदेश दिए थे, ताकि उसमें उगने वाली सब्जियां मिड डे मील में काम आ सकें।