वाह पुलिस महिला इंस्पेक्टर ने डोडा पोस्त के तस्कारों को भगाने के लिए ृ10 लाख रुपये में की कर डाली डील - Khulasa Online

वाह पुलिस महिला इंस्पेक्टर ने डोडा पोस्त के तस्कारों को भगाने के लिए ृ10 लाख रुपये में की कर डाली डील

सिरोही। तस्करों से सांठगांठ के आरोप में निलंबित बरलूट थाने की महिला स्॥ह्र सीमा जाखड़ ने पूरी डील वॉट्सऐप कॉल पर की थी। एसपी के निर्देश पर तस्करों को पकडऩे गई सीमा जाखड़ ने कार्रवाई करने की बजाय बाड़मेर में बैठे तस्करों के सरगना से संपर्क कर 10 लाख रुपए में डील कर ली। इतना ही नहीं थाने की जीप छोड़कर अपनी पर्सनल बलेनो कार से सरगना को भगाने में मदद की। जानकारी में यह भी सामने आया है कि सीमा जाखड़ की 28 नवंबर को शादी होनी है। उससे पहले ही भंडाफोड़ हो गया। पिछले कई दिनों से सिरोही एसपी धर्मेंद्र सिंह बरलूट एसएचओ सीमा जाखड़ पर नजर बनाए हुए थे। इस मामले में कार्रवाई करते हुए एसपी ने बरलूट एसएचओ सीमा जाखड़ सहित तीन कांस्टेबलों रमेश कुमार, ओमप्रकाश और हनुमान को निलंबित कर दिया है। एसएचओ सीमा जाखड़ की तीन कांस्टेबलों के साथ मिलकर तस्कर को 10 लाख रुपए के बदले छोडऩे की भूमिका एसपी की जांच में साबित हो गई है। गाड़ी पकड़ी तस्कर भागे रविवार शाम डोडा-चूरे के तस्करों के मूवमेंट की पुलिस इंटेलिजेंस की सूचना के बाद बरलूट थाना इलाके में नाकाबंदी की गई थी। सिरोही से जालोर की ओर जाने वाले रास्ते पर जावाल नदी पर की गई नाकाबंदी को देखकर तस्करों ने नदी से गाड़ी को फिर से सिरोही की ओर घुमा लिया, लेकिन नदी के दोनों छोर पर तैयार पुलिस टीम ने कीलों की चेन बिछा दी। इससे तस्करों की गाड़ी का टायर फट गया। करीब आधे किलोमीटर तक गाड़ी भगाने के बाद तस्कर फरार हो गए। तस्करों से शुरू किया सौदेबाजी का खेल तस्करों के फरार होने के बाद बरलूट एसएचओ सीमा जाखड़ ने एसपी धर्मेंद सिंह को फरारी की सूचना दी। एसपी ने तस्करों की हर हाल में गिरफ्तारी के आदेश दिए। इसके बाद तस्करों से सौदेबाजी का खेल शुरू हुआ। फरार तस्करों के बाड़मेर में बैठे सरगना ने एसएचओ सीमा जाखड़ से वॉट्सऐप कॉल पर बात की। फ रार तस्करों को सुरक्षित निकालने का ऑफर दिया। इसके बाद एसएचओ और तीनों कांस्टेबलों की टीम बाड़मेर में बैठे सरगना और फरार तस्कर से बात करती रही। एक तस्कर जावाल नदी की ओर भागकर नदी के अंदर और उसके सहारे चलते हुए एसएचओ के निर्देश पर सिरोही की ओर बढ़ता रहा। करीब 3 घंटे पैदल चलने के बाद तस्कर नदी से निकलकर बलवंतगढ़ बावड़ी के पास पहुंच गया। इस दौरान एसएचओ सीमा जाखड़ सरकारी जीप छोड़कर निजी वाहन बलेनो कार में बैठ गई। इसके बाद एक कांस्टेबल ढाबा संचालक की बाइक और एसएचओ कार में तस्कर की तलाश में निकले। कुछ देर बाद बलवंतगढ़ बावड़ी के पास से तस्कर एसएचओ सीमा जाखड़ की गाड़ी में आकर बैठ गया। जहां सौदा पूरा होने के बाद तस्कर को जावाल के पास से देर रात बाड़मेर जाने वाली बस में बैठाकर रवाना कर दिया। एसपी ने पहले पूछा, फिर फुटेज के बारे में बोला सूत्रों के मुताबिक, पिछले कई दिनों ने थानाधिकारी सीमा जाखड़ पर निगाह रख रहे सिरोही एसपी धर्मेंद्र सिंह को तस्कर से सौदेबाजी कर रुपए लेकर फरार करने का पता चला। इसके बाद वह तुरंत थाने जा पहुंचे। थाने में एसपी ने थानाधिकारी सीमा जाखड़ सहित चारों पुलिसकर्मी से तस्कर के बारे में पूछा। पुलिसकर्मियों ने एसपी को तस्कर को फरार कराने व सौदेबाजी से साफ इनकार कर दिया। इसके बाद एसपी ने तुरंत सीओ को जावाल नदी के पास स्थित होटल पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेजों को लेकर आने के लिए भेजा। फुटेज आने के बाद एसपी ने थानाधिकारी सीमा जाखड़ को सौदेबाजी के फुटेज होने के बारे में बोला, तो वह दंग रह गई। 10 दिन बाद है शादी तस्करों से सांठगांठ के आरोप में निलंबित हुई एसएचओ सीमा जाखड़ की 28 नवम्बर को शादी होने वाली है। बताया जा रहा है कि एसएचओ ने शादी के लिए बेहद महंगे और डिजाइनर कपड़ों की खरीदारी की तैयारी की हुई थी। होने वाला पति एक कोचिंग संस्थान में महंगे पैकेज पर हिंदी पढ़ाता है। अगर इस मामले में पुलिस गिरफ्तारी जैसा कोई कदम उठाती है तो निलंबित एसएचओ की शादी पर भी संकट आ सकता हैं।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp