>



नई दिल्‍ली. देश में कोरोना की दूसरी लहर ने कोहराम मचा रखा है. हर दिन कोरोना संक्रत मरीजों  की संख्‍या तेजी से बढ़ती जा रही है. हर कोई यही जानने की कोशिश कर रहा है कि आखिर कोरोना के नए संक्रमण से कब निजात मिलेगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सलाह देने वाली टीम ने पिछले महीने कहा था कि 7 मई के बाद कोरोना के आंकड़ों में गिरावट दर्ज की जाने लगेगी लेकिन कोरोना के बढ़ते केस को देखते हुए सभी अनुमान गलत साबित होने लगे हैं.
कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच ब्लूमबर्ग ने हैदराबाद में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान  में प्रोफेसर माथुकुमल्ली विद्यासागर के हवाले से बताया, अभी जिस तरह से कोरोना महामारी का दौर देखा जा रहा है उसके मुताबिक अगले कुछ दिन में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्‍या कम होना शुरू हो जाएगी. उन्‍होंने कानपुर आईआईटी के प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल के गणतीय मॉडल का उल्लेख किया और बताया कि एक अनुमान के मुताबिक जून के अंत तक हमें रोजाना 20 हजार मामले देखने को मिलेंगे. हालांकि उन्‍होंने कहा कि कोरोना के केस को देखते हुए यह आंकड़े बदल भी सकते हैं. कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए अब अनुमान लगाया जा रहा है क‍ि मई के मध्‍य में पूरे देश कोरोना पीक पर होगा और उसके बाद मामले घटने लगेंगे. भारत में पिछले तीन दिन से कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्‍या 4 लाख को पार कर जा रही है. पिछले 24 घंटे की बात करें तो देश में कोरोना के 4,01,078 नए मामले सामने आए हैं जबकि कोरोन से 4,187 लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी है.

देश में कोरोना के बढ़ते मामलों ने मचाया तांडव
देश में कोरोना की दूसरी लहर ने तांडव मचा रखा है. देश में हर दिन मौत के आंकड़े बढ़ते जा रहे हैं. 25 दिन पहले जहां कोरोना मरीजों की संख्‍या 1 हजार थी वहीं अब मौत का आंकड़ा 4 हजार को पार कर गया है. इससे पहले 13 अप्रैल को मौतों की संख्या 1 हजार को पार किया था जबकि 2 हजार की संख्या 20 अप्रैल और 3 हजार का आंकड़ा 27 अप्रैल को पार कर गई थी. पिछले 10 दिन के अंदर कोरोना से होने वाली मौत का आंकड़े ने 4 हजार को भी पार कर लिया है.