>



खुलासा न्यूज बीकानेर। एक तरफ जहां गर्मी व दूसरी नहरबंदी के कारण शहर में पानी के टैंकर वालों के चांदी हो गई है। शहर के कई ऐेसे इलाके है जहां पानी के त्राहि-त्राहि मची हुई है वहीं दूसरी तरफ पानी टैंकर वालों ने मौका का फायदा उठाते हुए अपनी पानी के टैंकरों में बेताहश वृद्धि कर दी है और इन पर रोक नहीं है। पानी की पूर्ति के लिए लोग टैंकरों का सहरा लेते है लेकिन इस भारी मंदी और लॉकडाउन के चलते लोगों को पानी के टैंकर लेने में भारी परेशानी हो रही है लेकिन इन टैंकरों वालों को कोई दया भाव नहीं है अभी 1500 लीटर के 500 से 800 रुपये व 5000 लीटर के 800 से 1200 रुपये तक ले रहे है। सबसे बड़ी बात यह है कि इन टैंकर वालों को पानी इतना कहां से मिल रहा है जहां एक तरफ नहर बंदी है तो पानी कहां से आ रहा है जो यह इतनी भारी भरकम रेट पर शहरवासियों को बेच रहे है। सूत्रों से ऐसी जानकारी मिली है कि आस पास के फार्म हाऊसों में कुंए खुदवा रखे है जो ऐसे मौकों पर पानी को बेचते है और अनियमिता रुप से लोगों को लूटते है। इस पर किसी भी सरकारी विभाग का नियंत्रण नहीं है। खुले आम पानी आ रहा है शहरवासियों को बेचा जा रहा है।
गर्मी में होती है पानी की ज्यादा खपत
गर्मी के कारण पानी की खपत बढ़ जाती है जिसके कारण पानी की कमी आ जाती है इसका फायदा फार्म हाउसों में बने कुंए वाले जमकर उठा रहे है यह अपने टैंकरों से पानी पहुंचते है लेकिन पैसे भी जमकर ऐठते है। नहरबंदी के कारण शहर की सप्लाई एक दिन छोडक़र की जा रही है लेकिन प्रत्येक व्यक्ति अपने घर में बुस्टर लगा रखे है जिसके कारण पानी घरों तक नहीं पहुंच जाता है। लेकिन आज तक जलदाय विभाग ने ऐसी कोई कार्यवाही नहीं की है कि उन्होने बुस्टर से पानी खिचने वाले पर कार्यवाही की हो।