कल होगा भादाणी जोशी जाति के बीच डोलची पानी का खेल - Khulasa Online

कल होगा भादाणी जोशी जाति के बीच डोलची पानी का खेल

बीकानेर । हाथों में डोलचियां, पानी से भरे बड़े कड़ाव और इन कड़ाव से पानी लेकर कर एक-दूसरे की पीठ पर वार करते भादाणी-जोशी जाति के लोग। बीकानेर के भादाणी  व जोशी जाति के लोग  डोलची मार होली की परंपरा निभाते आ रहे हैँ। यहां रंग की बजाए पानी से होली खेलते हैं। यहां डोलची से होली खेलने की परंपरा है। 16 फरवरी को बड़ा बाजार स्थित सिंगियों के चौक में डोलची का खेल खेला जायेगा। माना जाता है कि पानी का वार एक-दूसरे पर जितना तेज होगा और जितना दर्द होगा, प्रेम उतना ही बढ़ेगा। इस खेल में दो लोग आपस में खेलते हैं। चमड़े से बनी इस डोलची में खेलने वाला पानी भरता है और सामने खड़े अपने साथी की पीठ पर जोर से पानी से वार करता है। फिर उसे भी जवाब देने का मौका मिलता है जितनी तेज आवाज होती है उतना ही खेल का मजा आता है और जोश बढ़ता है। खेल का अंत लाल गुलाल उड़ाकर और पारंपरिक गीत गाकर किया जाता है। डोलची मार होली में ब‘चे, बूढ़े, जवान हर जाति धर्म के लोग हिस्सा लेते हैं। इस खेल में काफी पानी लगता है। इसलिए उसके लिए पहले से तैयारियां की जाती है। इस दिन बड़े-बड़े बर्तन में पानी भरा जाता है। अगर पानी कम पड़ जाए तो पानी के टैंकर मंगवाए जाते हैं। इस होली में सैकड़ों लोग एक-दूसरे की पीठ पर डोलची से पानी मारते हैं और होली खेलते है। बुधवार को  यह खेल भादाणी  और जोशी जाति के बीच खेला जाएगा।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp