लुहांस्क-डोनेट्स्क में घूसी रूसी सेना, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई - Khulasa Online

लुहांस्क-डोनेट्स्क में घूसी रूसी सेना, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई

नईदिल्ली. रूस की सेना यूक्रेन के दो प्रांतों लुहांस्क-डोनेट्स्क डोनबॉस इलाके में घुस गई है। राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने 13 घंटे भारतीय समय के अनुसार देर रात 3 बजे पहले यूक्रेन के इन दोनों राज्यों को स्वतंत्र देश घोषित किया था। इसके बाद रूसी सेना के टैंक इन इलाकों की तरफ बढ़ गए। पुतिन ने कहा कि लुहांस्क-डोनेट्स्क और अलगाववादियों के कब्जे वाले इलाके में शांति बनाए रखने के लिए ऐसा करना जरूरी है। इसी बीच ब्रिटेन ने यूक्रेन में रूस की घुसपैठ की पुष्टि की है। ब्रिटिश स्वास्थ्य सचिव साजिद जाविद ने कहा. यूक्रेन में रूसी आक्रमण शुरू हो गया है। उधर, यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने कहा है कि हम रूस के इस कदम से डरते नहीं हैं। हमने किसी से न तो कुछ लिया है और न ही किसी को कुछ देंगे। जेलेंस्की ने कहा कि रूस की घोषणाओं और खतरों के बावजूद यूक्रेन की अंतरराष्ट्रीय सीमाएं वैसे ही बनी रहेंगींए जैसे पहले थीं। यूके्रन के दो प्रांतों को स्वतंत्र घोषित करने वाले ​​पुतिन के कदम के बाद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई। भारत ने यूक्रेन में पढ़ रहे भारतीय छात्रों के लिए फि र से चेतावनी जारी की है। भारत ने पिछले 24 घंटे में दूसरी बार भारतीय छात्रों से यूक्रेन छोड़ने के लिए कहा है। भारतीय दूतावास ने कहा कि छात्र यूनिवर्सिटी की किसी मंजूरी का इंतजार किए बिना ही यूक्रेन छोड़ दें। यूरोपीय संघ की विदेश नीति के प्रमुख जोसेप बोरेल ने कहा कि रूस ने जो फैसला किया है उसको लेकर आज रूस पर प्रतिबंध लगाया जाएगा। पुतिन के लुहांस्क-डोनेट्स्क डोनबॉस इलाके को स्वतंत्र देश के तौर पर मान्यता देने के बाद यूएनएससी ने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई। यूएन ने रूस से बात करने और सैना को वापस बुलाने की बात कही है। संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि यूक्रेन के डोनेट्स्क और लुहांस्क क्षेत्रों को स्वतंत्र के रूप में मान्यता देने का रूस का निर्णय यूक्रेन की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता का उल्लंघन है और यूनाइटेड नेशन चार्टर के सिद्धांतों के खिलाफ है। उधर अमेरिका ने कहा कि रूस का यह कदम यूक्रेन में घुसपैठ का एक बहाना है। हम और हमारे साथी इस बात को लेकर सहमत हैं कि अगर रूस और ज्यादा घुसपैठ करता है तो उसे जल्द और माकूल जवाब देना चाहिए। यह वो वक्त हैए जब कोई किनारे पर खड़ा नहीं रह सकता है। एअर इंडिया की स्पेशल फ्लाइट यूक्रेन रवाना भारत ने अपने नागरिकों को बाहर निकालने की कवायद तेज कर दी है। एअर इंडिया की स्पेशल फ्लाइट मंगलवार सुबह यूक्रेन के लिए रवाना हुई। यह फ्लाइट आज रात तक दिल्ली लौट आएगी। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी.एस.तिरुमूर्ति ने कहा. 20,000 से ज्यादा भारतीय छात्र और नागरिक यूक्रेन के अलग-अलग हिस्सों और बॉर्डर क्षेत्रों में रहते और पढ़ते हैं। भारतीयों की सलामती हमारी प्राथमिकता है। पढ़ें पूरी खबरण्ण्ण् रूस के कदम पर भड़की दुनिया लुहांस्क-ोनेट्स्क को आजाद घोषित करने के पुतिन के फैसले की दुनिया में निंदा की जा रही है। नाटो चीफ ने इसे अंतरराष्ट्रीय समझौतों का उल्लंघन बताया है। वहीं, अमेरिका और कई यूरोपीय देशों ने चेतावनी दी है कि उसके खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएंगे। यूएनएससी में यूक्रेन के डिप्लोमैट सर्गेई किस्लिट्स्या ने कहा. हम इस मसले के राजनीतिक और डिप्लोमैटिक समाधान के लिए प्रतिबद्ध हैं, लेकिन हम उकसावे के आगे नहीं झुकेंगे। रूस बोला. पश्चिमी देशों ने हमें मजबूर किया यूक्रेन तनाव पर यूएनएससी की मीटिंग में रूस का कहना है कि हमारी तरफ से इस मसले के डिप्लोमैटिक हल के रास्ते खुले हैं। हालांकि हमारा डोनबास इलाके में खूनी संघर्ष का कोई इरादा नहीं है, लेकिन इस मामले में अमेरिका की लीडरशिप में पश्चिमी देशों के नेगेटिव रोल ने हमें मजबूर कर दिया है। अमेरिका ने लुहांस्क और डोनेट्स्क क्षेत्र पर लगाया बैन इस बीच राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अमेरिकी नागरिकों को लुहांस्क और डोनेट्स्क क्षेत्र में इन्वेस्टमेंट से रोकने वाले आदेश पर साइन कर दिया है। अमेरिका के अलावा ईयू और ब्रिटेन ने भी रूस पर पाबंदियां लगाने की बात कही है। इसके अलावा बाइडेन ने यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की से फ ोन पर बात की। अमेरिका ने यूक्रेन की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता बरकरार रखने के लिए अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की है।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp