खुलासा ग्राउण्ड रिपोर्ट : फर्जी हो सकती है जांच रिपोर्ट, बीकानेर में अवैध लैबों की भरमार, सीएमएचओ कुंभकर्णी नींद में

- संपादक कुशालसिंह मेड़तिया की विशेष रिपोर्ट खुलासा न्यूज, बीकानेर। बीकानेर जिले में अवैध रूप से संचालित पैथोलॉजी लैब व अल्ट्रासाउंड केंद्रों की भरमार है। इनके संचालन को लेकर लोग स्वास्थ्य विभाग की संलिप्तता करार दे रहे हैं। कार्रवाई न होने से केंद्र संचालकों का मनोबल बढ़ रहा है। जिले में 50 से अधिक यह लैब संचालित हो रहे हैं। जहां लोगों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ का खेल चल रहा है। किसी न किसी चिकित्सक के नाम पर लाइसेंस लेकर अल्ट्रासाउंड सेंटरों का संचालन अवैध तरीके से किए जा रहे हैं।इन सेंटरों में अप्रशिक्षित लोग मरीजों की जांच कर रिपोर्ट तैयार कर रहे हैं इसके आधार पर जिले के चिकित्सक मरीजों का इलाज कर रहे हैं। जिले में कई ऐसे केंद्र हैं जिनकी आड़ में महिला रोगियों का इलाज व प्रसव आदि का कार्य भी धड़ल्ले से किया जा रहा है।

सबसे ताज्जुब की बात है कि खुलेआम चल रहे इन केंद्रों की जांच के नाम पर लगातार खानापूर्ति का खेल चलता आ रहा है। जांच के नाम पर स्वास्थ्य विभाग के सीएमएचओ लीपापोती कर कार्यों की इतिश्री कर लेते हैं। इन अवैध लैब पर जब तक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी निष्पक्ष ढंग से कार्रवाई नहीं करेंगे तब तक अवैध केंद्रों का संचालन रूकना संभव नहीं है।

नियम के अनुसार जिस व्यक्ति के नाम पर मशीन का रजिस्ट्रेशन है वहीं उसे संचालित कर सकता है। लेकिन जिले के 50 सेंटरों में लगाए गए मशीन का संचालन लाइसेंसधारी नहीं कर रहे। इसके पीछे कारण है कि यहां ज्यादातर लाइसेंस प्रशिक्षित एमबीबीएस चिकित्सक के नाम पर जारी है। बताया जाता है कि अल्ट्रासाउंड सेंटर के संचालकों द्वारा लाइसेंसधारी चिकित्सकों को केवल बोर्ड लगाने के लिए प्रति माह निर्धारित शुल्क देना पड़ता है।

ना जाने कब एक्शन में आएंगे सीएमएचओ झोलाछाप चिकित्सकों के केन्द्रों एवं अवैध लैब पर ना जाने सीएमएचओ कब कार्यवाही करेंगे। जब इस बारे में बच्चा-बच्चा जान रहा है तो सीएमएचओ क्यों नहीं ? ऐसे में सीएमएचओ सवालों के कटघरे में है। पीबीएम अस्पाल स्थित एक्सरे लैब, पीबीएम अस्पताल के पीछे, व्यास कॉलोनी, बंगलानगर, मुक्ताप्रसाद में अवैध लैबों की भरमार है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp