>



खुलासा न्यूज,जयपुर।  कोरोना की दूसरी लहर के बीच अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से आयोजित होने वाली 10 परीक्षा पर सरकार जल्द ही निर्णय ले सकती है। इतना ही नहीं, कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सरकार सीबीएसई की तर्ज पर परीक्षाएं रद्द करने पर भी विचार कर सकती है।
शिक्षा विभाग की ओर से ट्विट कर मंगलवार को यह जानकारी दी गई है, जिसमें बताया गया है कि छात्रों के हित और भविष्य को देखते हुए 10 वीं बोर्ड परीक्षाओं पर जल्द ही निर्णय लिया जाएगा। बता दें कि प्रदेश के करीब 12 लाख विद्यार्थियों में परीक्षा आयोजन को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों के चलते अभी तक बोर्ड ने परीक्षा के आयोजन को लेकर कोई तैयारी नहीं की है।
अभी स्थितियां सामान्य होने का इंतजार किया जा रहा है। लेकिन वर्तमान कोरोना की परिस्थितियों को देखते हुए अगले दो महीने मई और जून तक परीक्षा कराना संभव नहीं है। ऐसे में जुलाई और अगस्त में परीक्षा आयोजन पर विचार किया गया तो अगले सत्र में देरी होगी, जिससे छात्रों की पढ़ाई प्रभावित होगी।
पिछले साल की बात करें तो माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने जून में 10वीं की परीक्षा कराई थी। उस समय कोरोना के मामलों में कमी आई थी। लेकिन पिछले साल की तुलना में इस बार हालात ज्यादा खराब हैं। गौरतलब है कि पिछले महीने सरकार ने कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए 10 वीं और 12 वीं बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित कर दिया था। ये परीक्षाएं 6 मई से शुरू होनी थी।
देवनानी कर चुके परीक्षा रद्द करने की मांग पूर्व शिक्षा मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता वासुदेव देवनानी ने राजस्थान शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को पत्र लिखकर आरबीएसई 10वीं बोर्ड परीक्षा को रद्द करने की मांग की है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि आरबीएसई 10वीं कक्षा की परीक्षा रद्द कर सीबीएसई की ओर से कमेटी बना अपनाई गई प्रक्रिया अनुसार परीक्षा परिणाम जारी करने की मांग की है।