पश्चिमी और दक्षिणी राजस्थान के कुछ इलाकों में बारिश का आंकड़ा औसत से काफी कम रह सकता है - Khulasa Online

पश्चिमी और दक्षिणी राजस्थान के कुछ इलाकों में बारिश का आंकड़ा औसत से काफी कम रह सकता है

जयपुर। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने मानसून 2022 (जून से सितंबर) को लेकर पहला अनुमान जारी किया है। राजस्थान में इस मानसून औसत के आसपास बारिश होगी। जबकि पश्चिमी और दक्षिणी राजस्थान के कुछ इलाकों में बारिश का आंकड़ा औसत से काफी कम रह सकता है। देशभर की बात करें तो इस मानसून औसत की 99 प्रतिशत मौसम केन्द्र जयपुर से मिली जानकारी के अनुसार देशभर में बारिश के अनुमान के साथ ही क्षेत्रवार भी जानकारी दी गई है। राजस्थान में औसत के आसपास बारिश रह सकती है। उत्तर-पश्चिमी और दक्षिणी-पश्चिमी राजस्थान के कुछ इलाकों में बारिश का आंकड़ा कम रहेगा। देखा जाए तो यहां औसत से काफी कम बारिश की संभावना बन रही है। बतादें कि राजस्थान में वर्ष 1961 से 2012 के आधार पर मानसून के दौरान औसत बारिश का आंकड़ा 415 एमएम रहता है। मौसम केन्द्र के निदेशक आर.एस. शर्मा ने बताया कि इस बार देशभर में औसत बारिश का आंकड़ा बदला जा रहा है। ऐसे में राजस्थान में भी इस आंकड़े में आंशिक बदलाव किया जा सकता है। मौसम का दूसरा अनुमान मई के अंतिम सप्ताह में जारी किया जाएगा, जिसमें प्रति माह के हिसाब से बारिश होने का अनुमान बताया जा सकता है। मौसम केन्द्र जयपुर के अनुसार राजस्थान में पिछले साल मानसून के दौरान बारिश का आंकड़ा औसत से 17 प्रतिशत ज्यादा रहा था। राजस्थान में सामान्य बारिश का आंकड़ा 414.5 एमएम है और बारिश का आंकड़ा 485.3 एमएम रहा था। इसमें भी ईस्ट राजस्थान में सामान्य बारिश का आंकड़ा 602.2 एमएम है जबकि 696.7 एमएम बारिश दर्ज की गई थी। यानि औसत से 16 प्रतिशत ज्यादा। वेस्ट राजस्थान में सामान्य बारिश का आंकड़ा 265.3 प्रतिशत है, जबकि 317.5 एमएम बारिश दर्ज की गई जो औसत से 20 प्रतिशत ज्यादा रही थी। राजस्थान में पिछले साल कोटा संभाग में बारिश का आंकड़ा सबसे ज्यादा रहा था।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp 26