बीकानेर से खबर- पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर की पति की हत्या, ऐसी रची कहानी, बार-बार बदला मामला - Khulasa Online

बीकानेर से खबर- पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर की पति की हत्या, ऐसी रची कहानी, बार-बार बदला मामला

खुलासा न्यूज, बीकानेर। पानी के होद में गिर जाने से हुई मौत के मामले में बज्जू पुलिस ने खुलासा करते हुए मृतक की पत्नी व उसके प्रेमी को गिरफ्तार किया है। एसपी शैलेन्द्र सिंह इंदौलिया ने बताया कि मृतक महेन्द्र की पत्नी सुनीता के खेत पड़ौसी निहाल सिंह से पिछले एक वर्ष से अवैध संबंध थे। दोनों शादी करना चाहते थे। सुनीता अपने पति महेन्द्र से तलाक लेना चाहती थी लेकिन महेन्द्र ने तलाक देने से मना कर दिया था। तब सुनीता व निहालसिंह ने मिलकर महेन्द्र को मारने की योजना बनाई। घटना के कुछ दिन पहले सुनीता व निहासिंह ने महेन्द्र को जान से मारने की नियत से कई सारी नींद की गोलियां दी, परंतु महेन्द्र नहीं मरा तो घटना के दो दिन पहले रात को नींद में महेन्द्र के मुंह में करंट लगाया फिर भी इनकी महेन्द्र को मारने की योजना सफल नहीं हुई।

ऐसे रची कहानी 6 जून को सुनीता के भाई गांव मिलने के लिए इनकी ढाणी रावत आबादी आये हुए थे। तब निहालसिंह व सुनीता ने योजना बनाई कि आज महेन्द्र के साथ कोई घटना करते है तो कोई शक भी नहीं करेगा। फिर इन्होंने योजनाबद्ध तरीके से इनको शराब पिलाकर खाने में नींद की गोलियां दी। फिर रात को निहालसिंह व सुनीता ने मिलकर महेन्द्र के हाथ-पैर बांधे व मुंह पर कपड़ा लगाकर मारने की कोशिश की, मगर महेन्द्र किसी तरह से बच गया। तब निहालसिंह ने महेन्द्र के सीर में ईंट मारकर, गला दबाकर महेन्द्र की हत्या कर दी एवं दोनों ने घटना को छुपाने के लिए महेन्द्र के सीर से निकला खून पानी की होद पर लगा दिया।उ उसके बाद दोनों मनगढ़त कहानी बनायी कि कोई पूछ तो कह देंगे की शराब के नशे में महेन्द्र पानी के होद पर गिर गया। जिससे उसकी मृत्यु हो गई।सुबह महेन्द्र के शव को गांव ले जाकर बिना पोस्टमार्टम करवाये अंतिम संस्कार कर दिया। घटना का पूर्ण खुलासा होने पर पुलिस ने मुल्जिम सुनीता (25) पत्नी महेन्द्र कुम्हार निवासी सादेवाला तहसील रानिया जिला सिरसा हरियाणा हाल कास्तकार खेत भुपराम रावत आबादी पुलिस थाना बज्जू तथा निहाल सिंह (24) पुत्र भागीरथ कुम्हार निवासी चक 09 सीडीबाई जागणवाला को गिरफ्तार किया गया। मुल्जिम सुनीता से घटना से संबंधित वजह सबूत बरामद किये गये।

मृतक के पिता ने यह दी थी रिपोर्ट महेन्द्र की मौत के मामले में पिता लेखराम पुत्र मुलाराम ने 27 जून को रिपोर्ट दी थी कि उसका पुत्र महेन्द्र पिछले छह साल से रावत आबादी बज्जू में भुपराम कुम्हार का खेत कास्त करता है। जो कि अपनी पत्नी सुनीता व बच्चों को साथ यही रहता था। महेन्द्र के खेत पड़ौसी निहालसिंह पुत्र भागीरथ महेन्द्र की ढाणी आना जाना था। 6 जून को महेन्द्र के साले महेन्द्र के पास आये हुए थे। रात को सभी ने शराब पी, निहालसिंह भी इनके साथ था। रात को सभी खाना खा कर सो गए। रात्रि करीब 11 बजे निहालसिंह महेन्द्र की पत्नी सुनीता के साथ छेड़छाड़ करने लगा तो सुनीता चिल्लाई। इस पर महेन्द्र जाग गया। निहालसिंह व महेन्द्र में झगड़ा हुआ। इस दौरान निहालसिंह ने महेन्द्र के सिर पर र्इंट मारी व गला दबाकर महेन्द्र की हत्या कर दी। बाद में निहालसिंह ने सुनीता व उसके बच्चों की जान से मारने की धमकी देकर घटना के साक्ष्य मिटा दिये और हमें घटना की जानकारी नहीं होने के कारण बिना पोस्टमार्टम महेन्द्र की लाश का अंतिम संस्कार कर दिया।<

error: Content is protected !!
Join Whatsapp