बीकानेर को लेकर मौसम विभाग की बड़ी चेतावनी, अप्रैल मई में भीषण गर्मी पड़ेगी - Khulasa Online

बीकानेर को लेकर मौसम विभाग की बड़ी चेतावनी, अप्रैल मई में भीषण गर्मी पड़ेगी

जयपुर। राजस्थान में तेज सर्दी के बाद अब अप्रैल-मई में भीषण गर्मी भी सताएगी। मौसम विभाग ने मार्च से मई में रहने वाले तापमान का जो पूर्वानुमान जताया है, उससे लोगों के अभी से पसीने छूटने लगे। मार्च के अंतिम सप्ताह से मई तक बीकानेर, जोधपुर संभाग में तेज गर्मी पड़ सकती है। अप्रैल से ही हीटवेव चलने के आसार हैं। जयपुर मौसम केन्द्र के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि केन्द्रीय मौसम विभाग ने जो पूर्वानुमान जताया है, उसमें राजस्थान के पश्चिमी क्षेत्र में तेज गर्मी पडऩे का अनुमान जताया है। बीकानेर, जोधपुर, जैसलमेर, बाड़मेर, जालोर, चूरू, नागौर और पाली बेल्ट में दिन और रात का तापमान सामान्य से ज्यादा रह सकता है। वहीं, पूर्वी राजस्थान के जयपुर, भरतपुर, उदयपुर, कोटा संभाग के जिलों में इस बार तापमान सामान्य ही रहने की उम्मीद है। मार्च में सामान्य रहेगा तापमान हालांकि मार्च में अंतिम सप्ताह तक राजस्थान में बारिश भी हो सकती है। इससे राज्य में तापमान में ज्यादा समय उतार-चढ़ाव देखने को मिलेगा, लेकिन अप्रैल और मई से तापमान में ज्यादा बढ़ोतरी होने लगेगी। मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक पश्चिमी राजस्थान में तापमान सामान्य से 2 डिग्री सेल्सियस तक ज्यादा रहने की संभावना है, जबकि बीकानेर, गंगानगर, जैसलमेर, चूरू बेल्ट में अप्रैल महीने में लू चलने की भी आशंका है। 50 डिग्री तक पहुंच जाता है चूरू का तापमान, राजस्थान में सबसे तेज गर्मी चूरू, जैसलमेर, फलौदी एरिया में पड़ती है। चूरू जिले में तो दिन का अधिकतम तापमान 50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा जाता है। इसके अलावा बीकानेर, सीकर, झुंझुनूं, गंगानगर, जालौर, बाड़मेर में भी पारा 46 से 48 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है। जयपुर, कोटा, उदयपुर, अजमेर समेत इनके आसपास के एरिया में अप्रैल-मई में औसत तापमान 38 से 42 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। साल 2019 में पड़ी थी पिछले 10 साल में सबसे भीषण गर्मी राजस्थान में गर्मी के दिन चरम मई के अंत से जून के पहले सप्ताह तक रहता है। पिछले एक दशक की बात करें तो राजस्थान में साल 2019 सबसे गर्म साल रहा। इस साल चूरू, गंगानगर में रिकॉर्ड तोड़ सर्दी पड़ी थी। चूरू में 1 जून 2019 में पारा 50.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया था, जो चूरू का अब तक के इतिहास का सबसे गर्म दिन था। इसी साल 31 मई को गंगानगर में अधिकतम तापमान 49.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया था, जो गंगानगर में अब तक का सबसे गर्म दिन माना जाता है। उन दिनों सडक़ों पर हालात ये है कि गुड़-मोमबत्ती जैसी चीज खुली रख देने पर वो 5-7 मिनट में पिघलकर बहने लगती थी। भारत में सबसे गर्म इलाका जोधपुर का फलौदी रहा है, जहां 19 मई 2016 में 51 डिग्री तापमान रिकॉर्ड किया हुआ था, जो भारत का सबसे गर्म दिन माना जाता है।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp