जीवदायिनी 108 की फूलती सांसे,हाफता सिस्टम, रैफर मरीज हो रहे परेशान - Khulasa Online

जीवदायिनी 108 की फूलती सांसे,हाफता सिस्टम, रैफर मरीज हो रहे परेशान

खुलासा न्यूज,बीकानेर। जिले में जीवन दायिनी का पर्याय बनी 108 एम्बूलेंस सेवा की सांसे पिछले 15 दिनों से फूलती जा रही है। हालात यह है कि जिले में संचालित 108 एम्बुलेंस में ऑक्सीजन नहीं होने के कारण रैफर के दौरान मरीजों को परेशानी हो रही है। गंभीर बीमारी के मरीजों व दुर्घटना के दौरान घायलों और कोरोना संक्रमित गंभीर मरीजों को एम्बुलेंस के माध्यम से अस्पताल तक पहुंचाने तथा गंभीर हालत होने पर अन्य जिलों व गांवों से रैफर करने पर 108 एम्बुलेंस से ले जाया जाता है। 108 एम्बुलेंस में ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था रहती है, ताकि रास्ते में मरीज या घायल की तबीयत बिगडऩे पर उसे ऑक्सीजन लगाया जा सके और अस्पताल तक पहुंचाया जा सके। दूसरी तरफ क्षेत्र में संचालित सभी 20 एम्बुलेंस में ऑक्सीजन की कोई व्यवस्था नहीं है। 15 दिनों से नहीं है ऑक्सीजन जिले में संचालित हो रही एम्बुलेंस में विगत 15 दिनों से सिलेंडर नहीं भरवाए जा रहे है। ऐसे में बिना ऑक्सीजन के ही एम्बुलेंस संचालित हो रही है। वर्तमान में कोरोना संक्रमितों को भी अस्पताल पहुंचाने व गंभीर हालत में रैफर करने पर 108 एम्बुलेंंस से ले जाया जाता है, लेकिन ऑक्सीजन नहीं होने के कारण मरीजों को परेशानी हो रही है। बावजूद इसके जिम्मेदारों की ओर से एम्बुलेंस में ऑक्सीजन की व्यवस्था करने को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जबकि इस बारे में एम्बूलेंस सेवा के चालकों और कंपनी की ओर से स्थानीय प्रशासन को 22 अप्रेल को पहला पत्र देने के बाद लगातार पत्राचार भी किया जा रहा है। किन्तु अभी तक कोई समाधान नहीं निकल रहा है। एम्बूलेंस सेवा को नहीं किया जा रहा सेनेटराइज मंजर यह है कि कोरोना संक्रमित मरीज को अस्पताल छोडऩे के बाद इसको सेनेटराइज भी नहीं किया जा रहा है। इतना ही नहीं एम्बूलेंस सेवा में अनेक उपकरण टूटे पड़े है। जिसको दुरूस्त नहीं किये जाने से भी खासी परेशानी हो रही है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp