इस थाने के एसएचओ पर लगे गंभीर आरोप

बीकानेर। पांचू पुलिस थाना क्षेत्र में दुष्कर्म, छेड़छाड़ व मारपीट के मामले में पीडि़ता को परिजन पीबीएम अस्पताल लेकर आए, जहां पीडि़ता को इलाज के हेतु भर्ती करवाया गया है।पीडि़ता के परिजनों का आरोप है कि पीडि़ता के जेठ, पति व देवर ने दुष्कर्म, छेड़छाड़ व मारपीट की, जिसका मुकदमा पांचू पुलिस थाने में दर्ज कराया गया है। वहीं पीडि़ता की सांस ने पीडि़ता के खिलाफ मारपीट की धाराओं में मुकदमा दर्ज करवाया है। पुलिस ने दोनों पक्षों की ओर से मामला दर्ज कर लिया और जांच शुरू कर दी। पांचू पुलिस ने शांतिभंग के आरोप में पति, पत्नी व देवर को गिरफ्तार कर लिया। अब महिला पक्ष की ओर से पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए जा रहे हैं। महिला द्वारा पुलिस पर तीन आरोप लगाए जा रहे हैं, जिसमें कहा जा रहा है कि थाने के अन्दर महिला के पति व उसके परिवार ने मारपीट की लेकिन पुलिस चुप रही, दूसरा आरोप है कि पुलिस ने महिला से मारपीट की। वहीं तीसरा आरोप एसएचओ के खिलाफ है, महिला का कहना है कि एसएचओ ने महिला के गलत जगह हाथ डाला। आरोप पर एसएचओ वेदपाल का कहना है कि थाने में किसी तरह की मारपीट आदि हुई ही नहीं, तथा महिला को वीडियोग्राफी में रखा गया है, वहीं आंनबाड़ी की कायकर्ता आशा संयोगिनी की देखरेख में महिला को रखा हुआ है। एसएचओ का कहना है कि महिला अपना फोन पुलिस को नहीं दे रही है, आराम से बातें कर रही है, उसके बावजूद पुलिस ने किसी तरह की जबरदस्ती नहीं की। जबकि गिरफ्तारी के बाद फोन नहीं रख सकते। बताया जा रहा है कि शनिवार को पांचीलाल की भतीजी के जन्मदिन की पार्टी थी जिसमें भी वह नहीं है। इसके बाद जब रात में पांचीलाल, उसका छोटा भाई व मां-बाप चौगान में खटिया पर सो रहे था तब आधी रात को विवाहिता नीचे आई और अपने कि बाल नोचने लगी तथा उसे खटिया से नीचे गिरा दिया। इसके बाद देवर पर लाठी व चाकू से वार किया। मां बाप पर हमला किया। इस बीच आपस में खींचातानी और हल्ला सुन पड़ोसी इक्कठे हो गए। जिसके बाद विवाहिता ने अपने रिश्तेदार बीकानेर के पूर्व पार्षद दीपक अरोड़ा, निर्मल आदि को फोन किया तो तीन लोग स्कॉर्पियोगाडी में मौके पर पहुंचे। वहीं पुलिस को सूचना दी गई जिस पर एसएचओ वेदपाल पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। बताया जा रहा है कि यहां एसएचओ ने यहां से मामला शांत करवाते हुए पीडि़ता को मेडिकल करवाने ले गए । एसएचओ का कहना है कि विवाहिता के रिश्तेदारों को दो दिन के लिए विवाहिता को ले जाने की रिक्वेस्ट की गई। वहीं विवाहिता के आरोपों पर मामला दर्ज करवाने का भी कहा गया। बताया जा रहा है कि मेडिकल होने तक रिश्तेदार वहां से रवाना हो गए तब पुलिस ने अपनी गाड़ी से विवाहिता को ससुराल छोड़ा। लेकिन वहां फिर से दोनों पक्ष झगडऩे लगे। जिस पर विवाहिता, उसके पति व देवर को 151 में गिरफ्तार किया गया।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp