इस गांव में मां की ममता हुई शर्मसार, जन्म के तुरंत बाद नवजात बच्ची को फेंका कीचड़ में, ग्रामीणों ने पहुंचाया अस्पताल - Khulasa Online

इस गांव में मां की ममता हुई शर्मसार, जन्म के तुरंत बाद नवजात बच्ची को फेंका कीचड़ में, ग्रामीणों ने पहुंचाया अस्पताल

सरदारशहर. नवरात्रा में जहां एक और घर.घर देवी की पूजा हो रही है वही सरदारशहर तहसील के गांव मितासर में बुधवार रात्रि को एक बच्ची को जन्म देने के तुरंत बाद कीचड़ में फेंक दिया गया। यहां से गुजर रहे गांव के ही ओमप्रकाश सारण ने जब बच्ची की आवाज सुनी तो मोबाइल की टॉर्च जला कर देखा तो कीचड़ में एक जिंदा बच्ची पड़ी थी। तुरंत आसपास के लोगों को सूचना दी और बच्चे को सरदारशहर के राजकीय अस्पताल पहुंचाया। जिंदा बच्ची मिलने की सूचना मिलते ही पूरे गांव में सनसनी फैल गई। राजकीय अस्पताल के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर चंद्रभान जांगिड़ ने बच्ची को नहलाया और आईसीयू वार्ड में भर्ती किया। शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर चंद्रभान जांगिड़ ने बताया कि बच्ची को जन्म देने के तुरंत बाद ही फेंका गया है जब गांव के लोग राजकीय अस्पताल लेकर आए तब बच्ची का लगभग 2 घंटे पहले ही जन्म हुआ था। उन्होंने बताया कि फिलहाल बच्ची स्वस्थ है और इलाज जारी है। चंद्रभान जांगिड़ ने बताया कि बच्ची को जब अस्पताल लेकर आए तो उन्होंने इसकी सूचना पुलिस थाने में दी जिस पर पुलिस थाने के एसआई माणकलाल डूडी राजकीय अस्पताल पहुंचे और मामले की जानकारी ली। अस्पताल पहुंचे एसआई माणकलाल डूडी ने बताया कि डॉक्टरों द्वारा सूचना मिली कि मितासर गांव के कुछ लोग एक जिंदा बच्ची को अस्पताल लेकर आए हैं सूचना पर अस्पताल पहुंचे तो मितासर गांव के ओमप्रकाश सारण ने रिपोर्ट दी है कि गांव में नत्थूराम की दुकान है उसके पास कीचड़ फैला हुआ था। कीचड़ में यह नवजात बच्ची पड़ी हुई मिली। वही रिपोर्ट में बताया कि किसी व्यक्ति ने पहचान छुपाने के लिए यह कुकृत्य किया है। वही पुलिस अब मामले की जांच में जुट चुकी है कि आखिरकार इस नवजात बच्ची को जन्म के तुरंत बाद किसने फेंकाए वही बच्ची को राजकीय अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती करवाया गया है जहां पर उसका इलाज जारी है। वही हैरान कर देने वाली बात यह है कि जन्म के तुरंत बाद इस बच्ची को फेंकने वाली मां का कलेजा क्या नहीं पसीजा। क्या इस बच्ची की मां को बच्ची को फेंकते हुए एक बार भी तरस नहीं आया। इस प्रकार का घिनौना कृत्य क्यों किया गया और इस घिनोने कृत्य में कौन.कौन शामिल है यह तो पुलिस की जांच के बाद ही पता चल पाएगा। लेकिन आज के समय में सोचने वाली बात यह है कि जहां एक और बेटियों को पढ़ाने और उन्हें अच्छी शिक्षा देने की बड़ी.बड़ी बातें हमारा यही शिक्षित समाज करता है वहीं इसी समाज से यह तस्वीर शर्मसार कर देने वाली है। इस तरह से इस नवजात बच्ची को कीचड़ में फेंका जाना मां की ममता को ही शर्मसार नहीं करता बल्कि इस शिक्षित समाज पर भी एक काला धब्बा है। वहीं घटना के बाद मितासर गांव में यह मामला चर्चा में बना हुआ है और हर कोई इस बच्ची के परिवार का पता लगाने में जुटा हुआ है। जिस किसीने भी इस घटना के बारे में सुना वह स्तब्ध रह गया।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp