2009 के बाद जिस व्यक्ति ने मकान या कोई कंस्ट्रक्शन करवाया तो सरकार यह राशि वसूलेगी - Khulasa Online

2009 के बाद जिस व्यक्ति ने मकान या कोई कंस्ट्रक्शन करवाया तो सरकार यह राशि वसूलेगी

जयपुर. साल 2009 या उसके बाद जिस व्यक्ति ने भी मकान या कोई कंस्ट्रक्शन करवाया है तो अब सरकार उससे लेबर सेस की राशि वसूल करेगी। इसके लिए बकायदा लेबर डिपार्टमेंट ने प्रदेश की सभी बिजली कंपनियों को एक लेटर लिखा है। इसमें उनसे 2009 से जारी बिजली के कनेक्शनों की जानकारी मांगी है। इन बिलों के आधार पर डिपार्टमेंट के लोगों को रैंडम नोटिस जारी करके लेबर सेस जमा करवाने के लिए कहा जाएगा। दरअसलए केन्द्र सरकार ने कंस्ट्रक्शन वर्कर्स के वेलफेयर के लिए साल 2009 में एक कानून लाकर लेबर सेस का प्रावधान किया था। इसके तहत कोई भी व्यक्ति, संस्था या कंपनी कंस्ट्रक्शन करवाती है तो उसे इस कंस्ट्रक्शन की कुल लागत का एक फ ीसदी राशि लेबर सेस के रूप में सरकार को देना पड़ता है। कंस्ट्रक्शन वर्कर्स सेस फंड में जमा इस राशि को सरकार श्रमिकों के लिए चलाई जा रही 13 तरह की स्कीम में अनुदान या सहायता के रूप में देती है। बिजली के बिल को मानेंगे आधार राजस्थान लेबर डिपार्टमेंट के कमीश्नर अंतर सिंह नेहरा ने बताया कि हमने तीनों डिस्कॉम जयपुर, जोधपुर और अजमेर के एमडी को पत्र लिखा है कि वे अपने.अपने एरिया के सभी जिलों के बिजली के कनेक्शन जारी करने की सूचना हमे उपलब्ध करवाए। 2009 के बाद जारी बिजली के बिलों को हम आधार मानकर रैंडम नोटिस जारी करेंगे। नोटिस के बाद मौके की रिपोर्ट करवाएं और उसके आधार पर व्यक्ति से लेबर सेस वसूलेंगे। बिल्टअप एरिया के आधार पर कंस्ट्रक्शन कॉस्ट निर्धारित नेहरा ने बताया कि अगर सेस के निर्धारण को लेकर कोई विवाद होता है तो उसके लिए हमारे यहां नियमों में कंस्ट्रक्शन कॉस्ट भी निर्धारित की है। जो पीडब्ल्यूडी और बाजार मूल्य से भी कम है। हम किसी भी ए क्लास के निर्माण की प्रतिवर्ग फ ीट की लागत 1 हजार रुपए से भी कम निर्धारित कर रखी है। जिस व्यक्ति के घर या संस्था का जितना बिल्टअप एरिया होगा उसे हमारी निर्धारित कॉस्ट से कैलकुलेशन करके कंस्ट्रक्शन कॉस्ट का निर्धारण किया जाएगा। सेस की गणना की जाएगी। इन 13 स्कीमों में मिलता है फ ायदा वर्तमान में राज्य सरकार ने रजिस्टर्ड कंस्ट्रक्शन श्रमिकों के वेलफेयर के लिए 13 तरह की स्कीम चला रखी है। इसमें निर्माण श्रमिक सुलभ्य आवास योजना, निर्माण श्रमिक जीवन व भविष्य सुरक्षा योजना, निर्माण श्रमिक टूलकिट सहायता योजना, शुभशक्ति योजना, प्रसूति सहायता योजना, सिलिकोसिस पीड़ित सहायता योजना, अंतरराष्ट्रीय खेल के लिए प्रत्सोहान सहायता योजना, आईआईटी/आईआईएम में प्रवेश पर ट्यूशन फ ीस पुर्नभरण योजना समेत अन्य है। इन योजनाओं में 11 लाख रुपए तक प्रोत्साहन, अनुदान व सहायता राशि दी जाती है।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp