बीकानेर में गर्मी ने तोड़ा रिकॉर्ड, 12 साल बाद सबसे गर्म दिन, मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया - Khulasa Online

बीकानेर में गर्मी ने तोड़ा रिकॉर्ड, 12 साल बाद सबसे गर्म दिन, मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया

बीकानेर. राजस्थान में 12 साल के इतिहास में पहली बार मार्च का महीना सबसे गर्म रहा। पिछले महीने राज्य के अधिकांश शहरों में दिन का पारा सामान्य से 5.7 डिग्री ऊपर ही रिकॉर्ड हुआ। अमूमन होली के बाद गर्मी के तेवर तेज होने लगते हैए लेकिन इस बार होली से पहले ही तापमान में बदलाव हो गया। 15 मार्च से पहले ही सीमावर्ती शहरों में पारा 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। मौसम विशेषज्ञ इसके पीछे कारण वेस्टर्न गर्म हवाओं का समय से पहले आना मान रहे हैं। बैक टू बैक बने एंटी साइक्लोनिक सर्कुलेशन सिस्टम के कारण भी राजस्थान समेत पश्चिमी व मध्य भारत के राज्यों में तापमान में बढ़ा है। जयपुर मौसम केंद्र के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि इस बार मार्च में समय से पहले गर्मी आ गई। 15 से 20 मार्च और फिर मार्च के अंतिम सप्ताह में बने सर्कुलेशन सिस्टम का असर राजस्थान, गुजरात के अलावा महाराष्ट्र और पश्चिमी मध्य प्रदेश के एरिया में रहा। इस सिस्टम के दौरान वायुमंडल में वेस्टर्न हवाएं भी प्रभावी रही। इस सिस्टम से बने दबाव की स्थिति के कारण तापमान में बढ़ोतरी हुई। 15 मार्च से ही पारा 40 पर पहुंचा मार्च के महीने में गर्मी के तेवर आखिरी सप्ताह में तेज होते है। पिछले 12 साल में 15 मार्च या उससे पहले कभी भी दिन का अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक नहीं पहुंचा। पहली बार बाड़मेर, जैसलमेर समेत 9 शहरों में दिन का अधिकतम तापमान 40 या उससे ऊपर गया। अमूमन लू के थपेड़े अप्रैल, मई और जून में झेलने पड़ते हैए लेकिन इस साल मार्च में होली से पहले ही लू चलने लग गई। 13 मार्च को बाड़मेर में पारा 40.3 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ। बीकानेरए गंगानगर में रिकॉर्ड ब्रेक हुआ राजस्थान में गर्मी न केवल तेज पड़ी बल्कि इस बार दो शहरों में नया रिकॉर्ड भी बना है। बीकानेर में 30 मार्च को दिन का अधिकतम तापमान 42.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ, जो पिछले 12 साल में सबसे गर्म दिन रहा था। इससे पहले बीकानेर में 31 मार्च 2018 को पारा 42.1 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ था। श्रीगंगानगर में 27 मार्च को अधिकतम तापमान 41.7 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआए जो 22 मार्च 2010 में रिकॉर्ड हुए 41.6 डिग्री सेल्सियस से भी अधिक रहा। श्रीगंगानगर का ये दिन पिछले 60 साल में मार्च का सबसे ज्यादा गर्म दिन रहा था। 3 महीने भीषण गर्मी और लू की चेतावनी अप्रैल में 14 अप्रैल तक राज्य में मौसम शुष्क रहने और तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस बढ़ने की संभावना है। इसके अलावा मौसम केन्द्र ने जो पूर्वानुमान जारी किया है उसमें इस बार अप्रैलए मई और जून में तापमान सामान्य से ऊपर रहने की संभावना है। पिछले एक दशक की रिपोर्ट में राजस्थान में साल 2019 सबसे गर्म रहा था। इस साल चूरू, श्रीगानगर में रिकॉर्ड तोड़ गर्मी पड़ी थी। चूरू में 1 जून 2019 में पारा 50.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ थाए जो चूरू का अब तक का सबसे गर्म दिन था। इस बार मार्च में जो गर्मी का ट्रेंड रहा है उसको देखकर विशेषज्ञ अनुमान जता रहे है कि इस गर्मी बहुत तेज पड़ेगी।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp