ईसीबी के विद्यार्थियों ने 10 साल से बंद बायोगैस प्लान को किया चालू - Khulasa Online

ईसीबी के विद्यार्थियों ने 10 साल से बंद बायोगैस प्लान को किया चालू

बीकानेर। बीकानेर के भीनासर की मुरली मनोहर गौशाला में 10 साल से बंद बायोगैस प्लांट को अभियांत्रिकी महाविद्यालय बीकानेर के मैकेनिकल विभाग के विद्यार्थियों ने प्राचार्य डॉ जयप्रकाश भामू, डॉ चंद्र शेखर राजोरिया, डॉ धर्मेंद्र सिंह एवं डॉ रवि कुमार के नेतृत्व में इसे पुन: संचालित करने का कार्य प्रारम्भ किया। इसी क्रम में इस इकाई को साफ़ करके पुन: उपयोग हेतु आवश्यक कार्यवाही की गयी। ज्ञात रहे की बायोगैस वैकल्पिक स्त्रोत के रूप में लोकप्रिय है जो की ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में जैविक सामग्री के विघटन से उत्पन्न होती है ढ्ढ यह पशुओं और स्थानीय रूप से उपलब्ध अपशिष्ठ से पैदा की जा सकती है जो विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में खाना पकाने व प्रकाश व्यवस्था के लिए ऊर्जा आपूर्ति करने के साथ उन्हें आत्मा निर्भर बनाता है वहीं पर्यावरण भी संरक्षित करता है। बायो गैस इसलिए भी बेहतर है क्योंकि यह सस्ता और नवीकृत ऊर्जा स्रोत है। बायो गैस में 75 प्रतिशत मेथेन गैस होती है जो बिना धुँआ उत्पन्न किए जलती है। लकड़ी, चारकोल तथा कोयले के विपरीत यह जलने के पश्चात राख जैसे कोई उपशिष्ट भी नहीं छोड़ती ढ्ढ विकासशील देशों के लिए यह फायदेमंद है क्योंकि इसे छोटे संयंत्रों में बनाया जा सकता है। मुरली मनोहर गौशाला के मैनेजर सत्यनारायण राठी ने ईसीबी के छात्रों रोहित सुथार, सर्वेश्वर बिहारी, प्रशांत नाहर व ईसीबी प्रशासन की तारीफ करते हुए धन्यवाद् प्रेषित किया, साथ ही बताया की वर्तमान में भीनासर गोशाला में 4000 गोवंश है, व पड़ोस के गावो में 6000 गोवंश और उपलब्ध है व् बायोगैस प्लांट की क्षमता 85 क्यूबिक मीटर है ढ्ढ प्लांट से निकलने वाली गैस को सिलेंडर में भरे जाने की मशीन भी डेवलप हो गई है। इससे मिलने वाली गैस को शुद्धिकरण के पश्चात कंप्रेस करके सिलिंडर मैं भरा जा रहा है व् इसके बायप्रोडक्ट जैसे की सल्फर डाई ऑक्साइड और कार्बन डाई ऑक्साइड के भण्डारण की प्रक्रिया भी चल रही है जिसको परिक्षण के उपरांत विभिन उपयोगो में लाया जा सकेगा ढ्ढ प्लांट से निकलने वाली वेस्ट सामग्री एक बेहतरीन खाद के रूप में फसल के लिए उपयोगी होती है व वर्तमान में बायोगैस के साथ ही खाद की सुविधा भी किसानों को मिलेगी। जनसंपर्क अधिकारी डॉ. नवीन शर्मा ने बताया की वर्तमान में प्लांट की क्षमता को बढ़ा कर 1000 क्यूबिक मीटर करने तथा इसके लिये एक अलग बॉटलिंग प्लांट लगाने के लिए ई सी बी प्रयासरत है व प्रोजेक्ट लिख कर विभिन्न सरकारी एजेंसीज से फंडिंग प्राप्त करने के लिये भेजा जा रहा है ढ्ढ इससे प्राप्त होने वाली गैस को बीकानेर जिले के भुजिया-पापड़, सिरेमिक, वूलेन इंडस्ट्रीज व स्थानीय बाजार में उपयोग में लाया जा सकेगा व इससे गौशाला की ज़रूरतों को भी पूरा किया जा सकेगा ढ्ढ इससे होने वाली आय से गौशाला की आर्थिक स्तिथि भी सुदृढ़ होगी ढ्ढ यदि हमारा यह प्रयास सफल होता है तो इससे देशभर की अन्य गौशालाओ को भी प्रेरणा मिलेगी, जिससे न केवल यह आर्थिक व सामाजिक दृष्टि से मजबूत होंगी अपितु पर्यावरण संरक्षण में भी अपना योगदान दे पायेंगी।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp