बीकानेर में मौसम को लेकर आई बड़ी खबर

सीकर। राजस्थान में शनिवार को बरसात फिर लौटने के आसार है। बारिश के साथ इस बार ओलावृष्टि की भी आशंका है। इसके लिए मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है। मौसम विज्ञान केंद्र जयपुर के अनुसार एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने से उत्तर पश्चिमी राजस्थान के ऊपर एक परिसंचरण तंत्र बनने की संभावना है। इस तंत्र के प्रभाव से प्रदेश के कई इलाकों में दो दिन बरसात व ओलावृष्टि देखने को मिल सकती है। मौसम विज्ञान केंद्र जयपुर के अनुसार इस परिसंचरण तंत्र का सबसे ज्यादा असर पश्चिमी राजस्थान के बीकानेर व जोधपुर संभाग के जिलों में शनिवार को रहेगा। जिससे बीकानेर, गंगानगर, हनुमानगढ़ व चुरू जिलों में एक-दो स्थानों पर मेघगर्जन के साथ ओलावृष्टि होने की भी संभावना है । जबकि सीकर, झुंझुनूं, नागौर, जोधपुर व जैसलमेर जिलों के कुछ स्थानों पर भी शनिवार को मेघगर्जन व अचानक तेज हवाओं के साथ बारिश होने की प्रबल संभावना है। इस दौरान आकाशीय बिजली चमकने व मेघगर्जन के साथ 30 से 40 किमी रफ्तार की हवाएं भी चल सकती है। स्काईमेट वेदर रिपोर्ट के अनुसार भी शनिवार को पश्चिमी राजस्थान के कई जिलों में हल्की से मध्यम बरसात होने के आसार हैं। दो दिन रहेगा पश्चिमी विक्षोभ का असर मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ का असर प्रदेश में दो दिन तक रहेगा। शनिवार को बरसात व ओलावृष्टि बाद रविवार को भी राज्य के उत्तरी भागों में कहीं कहीं हल्के दर्जे की बारिश होने के आसार है। हालांकि इसके बाद 25 अक्टूबर से इस सिस्टम का असर पूरी तरह से समाप्त होगा। इसके बाद मौसम साफ हो जाएगा। हवाओं की रफ्तार कम होकर धूप भी खिल जाएगी। गिरेगा पारा, बढ़ेगी सर्दी मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार दो दिन की बरसात व ओलावृष्टि के बाद प्रदेश में सर्दी का असर बढ़ जाएगा। हवा में नमी की मात्रा बढ़ जाएगी। मौसमी तंत्र से न्यूनतम तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस की गिरावट होने की संभावना है। पकी फसलों को सुरक्षित करें किसान मौसम विभाग के अनुसार मौसमी तंत्र को देखते हुए किसानों को पकी फसलों को भीगने से बचाने की व्यवस्था करनी चाहिए। कृषि मंडीयों व खेतों में खुले में रखी फसल को सुरक्षित स्थान पर भंडारण कर लेना चाहिए।

error: Content is protected !!