बीकानेर में रेमडेसिवर की कालाबाजारी की नहीं सुलझी गुत्थी, एसओजी के रडार पर ये स्टॉकिस्ट, मुख्य विक्रेता कौन ? - Khulasa Online

बीकानेर में रेमडेसिवर की कालाबाजारी की नहीं सुलझी गुत्थी, एसओजी के रडार पर ये स्टॉकिस्ट, मुख्य विक्रेता कौन ?

खुलासा न्यूज, बीकानेर। जीवन रक्षक दवा रेमडेसिवर इंजेक्शन को लेकर पूरे प्रदेश में कालाबाजारी की खबरें सामने आ रही है। बीकानेर में रेमडेसिवर की कालाबाजारी की गुत्थी सुलझ ही नहीं रही है। एसओजी और सदर पुलिस इसमें उलझती नजऱ आ रही है। बुधवार को पकड़े गए चारों आरोपी मुंह ही नहीं खोल रहे है। एक निजी लैब के संदीप नायक, निजी अस्पताल के रमेश सिंह, महेंद्र विश्नोई व अनिल जाट के अलावा दो और युवक इस गैंग में शामिल बताए जा रहे हैं। पुलिस के अनुसार ये काम एक सप्लाई चेन से होता है। हालांकि इस चेन में कौन किसको माल देता है, यह अभी रहस्य ही है। वहीं अन्य दो आरोपी पकड़े जाने पर मुख्य विक्रेता का नाम सामने आएगा। दूसरी ओर एस ओ जी ने हाल ही में पूरे प्रदेश भर में रेमडेसिवर के स्टॉकिस्टों से सप्लाई डिटेल मांगी थी। इसमें भी कुछ गड़बडयि़ां प्रतीत हुई है। बता दें कि एस ओ जी ने बीकानेर की मित्तल ड्रग एजेंसी, जिंदल मेडिकोज, राजेंद्र मेडिकोज, तंवर मेडिकोज, मित्तल फार्मा व गौरव एजेंसी से स्टॉक एवं सप्लाई स्टेटमेंट मांगा था। बताया यह भी जा रहा है कि इनमें से कुछ फर्मों ने जयपुर के निजी अस्पतालों में भी सप्लाई दी है। हालांकि ऐसी सप्लाई पर पाबंदी का कोई आदेश सामने नहीं आया है, ऐसे में निर्धारित दरों पर सप्लाई की भी हो तो इसमें फर्में दोषी नहीं होगी। बता दें कि सदर पुलिस के अनुसार जब उन्होंने डीएसटी के साथ मिलकर स्टिंग किया था, तब आरोपी संदीप ने 24000 रूपए में बोगस ग्राहक को यह इंजेक्शन बेचा था। रेमडेसिवर की कालाबाजारी ने मानवता को कलंकित कर दिया है। आमजन में भी आक्रोश दिखाई दे रहा है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp