बीकानेर जेल में 100 बंदी और होंगे शिफ्ट - Khulasa Online

बीकानेर जेल में 100 बंदी और होंगे शिफ्ट

बीकानेर। हाल ही प्रदेश की कुछ जेलों से बंदियों के फरार होने के मामले सामने आ चुके हैं, जिसका प्रमुख कारण क्षमता से अधिक बंदियों की संख्या रही। बंदियों की संख्या अधिक होने के कारण जेल प्रशासन निगरानी नहीं रख पाया, ऐसे में मौका पाकर जेल प्रहरियों पर हमला व गच्चा देकर बंदी फरार होने में कामयाब हो गए। कमोबेश यही हालात चूरू जिला के भी हैं, यहां जेल में क्षमता से अधिक बंदियों की संख्या 147 अधिक पहुंच चुकी है।ऐसे में सुरक्षा को लेकर कई सवाल खड़े हो जाते हैं। वहीं, जेलों में क्षमता से अधिक बंदियों के रखने के कारण व्यवस्था बनाए रखना स्थानीय जेल प्रशासन के लिए चुनौती से कम नहीं है। जिला कारागार में 163 बंदियों को रखने की क्षमता राज्य सरकार की ओर से निर्धारित है। इन दिनों बंदियों की संख्या 310 तक पहुंच चुकी है।इस गंभीर स्थिति को देखते हुए जेल प्रशासन के उच्चाधिकारियों की ओर से एक आदेश जारी कर अब सौ बंदियों को बीकानेर जेल में स्थानांतरित करने के आदेश दिए गए हैं।उच्चाधिकारियों से मिले निर्देशों के बाद जेल प्रशासन की ओर से सूची तैयार की जा रही है।माना जा रहा है कि अगस्त माह के अंत तक बंदियों को शिफ्ट कर दिया जाएगा।इससे जेल पर दबाव कम होने से कार्मिकों को कुछ राहत मिलेगी। जेल की खतरनाक स्थिति, क्षमता से 123 बंदी अधिक जेल में क्षमता से अधिक बंदियों की संख्या के चलते खतरे को लेकर आगाह किया गया था। इसे गंभीरता से लेते हुए जेल प्रशासन के उच्चाधिकारियों ने सौ बंदियों को शिफ्ट करने के आदेश जारी किए हैं। जेल का नहीं हुआ विस्तार सूत्रों की माने तो जब से जेल का निर्माण हुआ है, उसके बाद से कोई खास विस्तार का कार्य नहीं हुआ है, जबकि आए दिन बंदियों की संख्या में लगातार इजाफ ा होता जा रहा है। एक बैरक में क्षमता से अधिक बंदियों को रखा जा रहा है। बंदियों की संख्या अधिक होने से उन पर नजर रखना मुश्किल हो जाता है। कई बार अवांछित वस्तु भी प्राप्त हो जाती हैं। बंदी भी इस बात का फ ायदा उठाकर कई बार छुप-छुप कर वस्तुएं रखते हैं। सूत्रों की माने तो जिला जेल में कई हार्डकोर अपराधी भी हैं, जो कि अलग-अलग गैंगों से ताल्लुक रखते हैं। ऐसे में वर्चस्व को लेकर भिड़ंत होने से भी इंकार नहीं किया जा सकता है। उल्लेखनीय है किकुछ माह पूर्व वर्चस्व को लेकर बंदियों के भिडऩे का भी मामला सामने आ चुका है। बढ़ रहा है जिले में अपराध सूत्रों की माने तो एक पखवाड़े पहले जिला जेल में बंदियों की संख्या 127 अधिक थी। लेकिन अब 147 हो चुकी है, जो कि जिले में अपराध के बढ़ते हुए ग्राफ को दर्शाता है। हालत यह है कि जिले में चोरी, लूट, बलात्कार, हत्या जैसे मामले बढ़ रहे हैं। बदमाश दिन-दहाड़े वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। हालांकि पुलिस की ओर से गिरफ्तार कर उन्हें सलाखों के पीछे पहुंचाया जा रहा है। ये है जिला जेल की स्थिति जिला जेल क्षमता- 16 3 कुल बंदी- 310

error: Content is protected !!
Join Whatsapp