>




खुलासा न्यूज,बीकानेर। एक ओर तो सरकार और बैंक ऑनलाईन ट्रान्जेक्शन की पैरवी कर रही है। ताकि कैसलेश प्रणाली को बल मिल सके। लेकिन इस ऑनलाइन ट्रान्जेक्शन ने ठगी के मामले बढ़ा दिये है। आएं दिन ऑनलाइन ठगी के नए मामले सामने आ रहे है। जिले के श्रीडूंगरगढ़ में ठग ने एक नए तरीके से आईसक्रीम विक्रेता से ठगी कर करीब 36 हजार 721 रूपये का चूना लगा दिया। इसको लेकर पीडि़त ने थाने में मामला दर्ज करवाया है। थानाधिकारी वेदपाल शिवराण ने बताया कि कस्बे के अशोक वैद पुत्र माणकचंद वैद आज ऑनलाइन ठगी का शिकार हुए और अपनी 36,721 रूपए की राशि गवां बैठे। अशोक ने बताया कि श्रीडूंगरगढ़ बाजार में मेरी आइसक्रीम की दुकान है और 28 फरवरी को अंतिम रविवार होने के कारण घर पर था तभी मेरे व्हाट्सअप नम्बर पर इन 9628714483 नम्बरों से मैसेज आया और आईसक्रिम के डिब्बे मांगे। मैंने फोन किया और बात करके उसे 4,500 रूपए का बिल बना कर भेजा तो उस ठग ने मेरी पुत्री प्रज्ञा के फोन पर 1 रूपया पेटीएम किया तथा आर्मी चैक का क्यूआर कोड भेजा और उसे स्केन करने की बात कही। हमने क्यूआर कोड स्केन किया तो प्रज्ञा के अकाउंट से 4,500 रूपए कट गए। उस व्यक्ति ने कहा कि मशीन में खराबी होने के कारण कट गए होंगे आप एक बार पुन स्कैन करो और दुबारा स्कैन करने पर 9,999 रूपए और कट गए। उसके बाद दो बार 11,111 और 11,111 रूपए अपने आप कट गए और इस प्रकार प्रज्ञा के खाते से कुल 36,721 रूपए निकाल लिए। फिर मोबाइल नम्बर 9549060571 से फोन आया कि लड़का नया है गलती हो गई आप 15,000 रूपए मेरे खाते में डालो मैं आपको रूपए वापिस भेज दूंगा। जब मैंने रूपए देने से इंकार कर दिया तो उसने तुरंत मोबाइल से मैसेज व क्यूआर कोड डिलिट कर दिए और मेरा फोन उठाना बंद कर दिया। अशोक ने थाने में मुकदमा दर्ज करने बाबत शिकायत भी की है।
बरते सतर्कता
पुलिस ने इस प्रकार की ठगी से आमजन को सतर्कता बरतने की बात कही है। थानाधिकारी ने कहा कि क्यू आर कोड स्केन करने या किसी को ओटीपी बताने से पहले सभी बात को समझ लें।