>


  1. बीकानेर। एक ओर तो सरकार शहर को प्रदूषण मुक्त करने की मुहिम में जुटी है। वहीं दूसरी ओर फड़बाजार जैसे आबादी  वाले क्षेत्र में धड़ल्ले से अवैध आटा चक्की चल रही है। जबकि ऐसी आटा चक्की पर तत्कालीन एडीएम प्रिंयका  गोस्वामी ने एक फैसला सुनाते हुए इन चक्कियों को बंद करने के निर्देश दिए थे। उसके बाद भी उन निर्देशों की धज्जियां  उडाई जा रही है। जिसको लेकर बीकानेर के एक सजग नागरिक खुशालचंद व्यास ने पुन: जिला कलक्टर को शिकायत  कर फड बाजार में चल रही अवैध आटा चक्की को बंद करने की गुहार लगाई है। उन्होंने ज्ञापन में अवगत कराया है कि  फडबाजार स्थित मैसर्स रामदेव आटा फ्लोर व कुशाल फ्लोर मिल ने आटा चक्की के नाम पर अवैध रूप से सुखी  मिर्ची,धनिया,हल्दी की पिसाई का काम कर रहे है। जिससे फडबाजार में आने वाले राहगीरों को आंखों की जलन,श्वास  लेने में परेशानी जैसी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। व्यास ने अवगत कराया कि मिर्ची पिसाई के कण हवा में  घुलने से क्षेत्र का वातावरण दूषित हो रहा है। साथ ही वाहन चालकों,स्थानीय दुकानदारों तथा क्षेत्र के निवासियों की आंखों  में मिर्ची के कण गिरने से आए दिन आंख की बीमारियों व चर्म संबंधित रोग हो रहे है। व्यास ने आबादी क्षेत्र से इन फ्लोर  मिल्स को तुरंत हटाने की गुहार लगाई है।
    गौरतलब रहे कि तत्कालीन एडीएम सिटी प्रिंयका गोस्वामी के समक्ष क्षेत्र वासियों ने एक परिवाद लगाकर इन चक्कियों  द्वारा क्षेत्र में प्रदूषण फैलाने की याचिका लगाई थी। जिस पर फैसला सुनाते हुए जनहित में ऐसी फ्लोर मिल्स को आबादी  क्षेत्र से दूर लगाने के आदेश दिए थे। लेकिन आज दिनांक तक एडीएम के उन आदेशों की अनुपालना नहीं हुई है।