>




जयपुर। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर सख्ती की चेतावनी दी है, लेकिन प्रदेश में लॉकडाउन लगाने से साफ इनकार कर दिया है। गहलोत ने कहा कि कोरोना को लेकर जनता लापरवाह हो गई है, इसलिए कुछ सख्त कदम उठाए हैं। अगर और सख्ती करनी पड़ती है तो हम करेंगे। लोग नहीं चाहते कि लॉकडाउन लगे। लॉकडाउन लगाना बहुत ही खतरनाक है। सबका रोजगार बंद हो जाता है। बिना लॉकडाउन लगाए हमें सख्ती करनी पड़ेगी। गहलोत शनिवार को मेडिकल सुविधाओं के वर्चुअल लोकार्पण समारोह में बोल रहे थे।
गहलोत ने कहा कि हमें कोरोना की दूसरी लहर को गंभीरता से लेना होगा। पिछले साल 18 मार्च को राजस्थान में कोरोना के 14 केस थे। इस बार 18 मार्च को 370 केस आए। आप सोच सकते हैं कहां पिछले साल 14 केस थे और पूरे राजस्थान में फैल गया। ​इस बार 370 पर पहुंच गए। हमारी तैयारी बहुत शानदार है। कैसे भी हालत बने मुकाबले को तैयार हैं। हमें ध्यान रखना होगा कि कोरोना फैले ही क्यों? हम चाहते हैं कोरोना राजस्थान में फैले ही नहीं। कई राज्यों में हालत बहुत खराब है, इसलिए हमें सजग और सतर्क रहना होगा।
कोरोना केस बढ़े तो और पाबंदियां लगना तय
गहलोत ने कोरोना के मामले बढऩे पर और सख्ती के संकेत दिए हैं। यह सातवां मौका है जब पिछले 10 दिन के अंतराल में सीएम गहलोत ने सख्ती की चेतावनी दी है। पिछले दिनों ही गृह विभाग ने गाइडलाइन जारी की थी, जिसमें आठ शहरों में नाइट कर्फ्यू लगाया था। इसके अलावा शादी समाराहों में 200 लोगों और अंतिम संस्कार में 20 से ज्यादा लोगों की लिमिट लगा दी है। कोरोना के मामले बढऩे पर नाइट कर्फ्यू का दायरा और बढ़ सकता है।
1 अप्रैल से यूनिर्वसल हेल्थ कवरेज के लिए रजिस्ट्रेशन, 1 मई से योजना लागू
सीएम गहलोत ने कहा कि 1 अप्रैल से यूनिर्वसल हेल्थ कवरेज के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू होगा। राजस्थान ने पूरे प्रदेशवासियों का 5 लाख तक के मुफ्त इलाज का बीमा होगा। 1 मई से योजना लागू होगी। केंद्र सरकार इस योजना पर 350 करोड़ देगी। राजस्थान सरकार इस पर 3000 करोड़ खर्च करेगी। इस योजना का लाभ सबको मिलेगा। अमीर लोग भी 850 रुपए जमा करवाकर हेल्थ बीमा का लाभ ले सकते हैं।