>

बीकानेर। एक ओर तो राज्य सरकार ने कोरोना वायरस को लेकर तीस मार्च तक स्कूल,कॉलेज व सिनेमाघरों को बंद करने के आदेश दे दिए है। वहीं दूसरी ओर महिला एवं बाल विकास विभाग ने इस आदेश को गंभीरता से नहीं लिया है। बताया जा रहा है कि प्रदेश के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों को बंद न करने के कोई आदेश जारी नहीं हुए है। मजे की बात हो न तो इनके पास सेनेटाईजर है और न ही मास्क की कोई व्यवस्था। एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने अपना नाम न छापने की शर्ते पर बताया कि हमें महज खांसी,सर्दी जुकाम से पीडि़त बच्चों को आंगनबाड़ी केन्द्रों पर न बैठाने की बात जरूरी कही गई है। वहीं दूसरी ओर शनिवार को जहां पूरे प्रदेश में स्कूल,कॉलेज व सिनेमाघरों को बंद करने के आदेश निकाल गये। वहां आंगनबाड़ी केन्द्रों के संदर्भ में कोई आदेश नहीं दिये गये। उधर विभाग के आलाधिकारी सरकार की एडवाईजरी की बातें तो करती दिख रही है,परन्तु आंगनबाड़ी केन्द्रों को बंद करने जैसे आदेशों पर बोलने से कतरा रहे है।