>



बीकानेर। स्वामी आर.एन.आर.एस.वी. में इनक्रेडेबल इण्डिया प्रीत देश की का आयोजन करणी नगर लालगढ ़स्थित स्वामी आर.एन.आर.एस.वी. सीनियर सैकण्डरी स्कूल के प्रांगण में आर.एस.वी गु्रप ऑफ स्कूल ने देश भक्ति से ओतप्रोत इनक्रेडेबल इण्डिया प्रीत देश की सांस्क ृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया। मुख्य अतिथि राजस्थान वेंटनरी यूनिवर्सिटी के कुलपति विष्णु शर्मा ने विशिष्ट अतिथि फ ॉर्टिस हॉस्पिटल के कॉर्डियोलोजिस्ट डॉ. बी.एल. स्वामी,बीकानेर इंजीनियरिंग कॉल ेज के ऐसोसिएट प्रोफेसर डॉ. गौरव बिस्सा और वेटनरी यूनिवर्सिटी के आर. के दुरिया रहे। कार्यक्रम का प्रारम्भ शिक्षाविद् और आर.एस.वी. ग्रुप ऑफ स्कूल के संस्थापक रामनारायण स्वामी ने अतिथियों के साथ द्वीप प्रज्जवलित कर किया। कार्यक्रम में देश भक्ति एवं भारतीय संस्क ृति की छटा देखते ही बनती थी। कार्यक्रम का प्रारम्भ परम्परानुसार इश वंदना से किया गया। इसके पश्चात कश्मीर की वादियों से होते हुए नृत्य एवं संगीत का काफि ला पंजाब, हरियाणा, गुजरात, आसाम,राजस्थान से दक्षिण भारत क े कन्याकुमारी तक पहुंचा। जिसमें मुख्य रुप से कश्मीर का डोगरी, हरियाणा का सांग और तोड़ी, पंजाब का गिद्धा और भंगड़ा, राजस्थान का घूमर, आसाम का बिहू, गुजरात का गरबा और डांडिया और दक्षिण भारत का भरतनाट्यम आदि प्रस्तुतियों को मनामोहक अंदाज में प्रस्तुत किया।

खचाखच भरे मैदान में दर्शकों की करतल ध्वनि एवं भारत माता की जय के नारे,वंदेमातरम अपने आप में विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत कार्यक्रमों की सराहना कर रहे थे। नन्हे बालक एवं बालिकाओं द्वारा प्रस्तुत अपने देश की महान विभूतियों एवं इतिहास के हीरों की प्रतिकृतियां भी दर्शको को मंत्रमुग्ध कर गयी। स्केटिंग क े माध्यम से प्रस्तुत करतबों द्वारा विद्यार्थियों ने उपस्थित दर्शको को दांतो तले उंगली दबाने को मजबूर किया एवं तालियां बटोरी। मुख्य अतिथि कुलपति विष्णु शर्मा ने अपने उद्भोदन में कहा कि भारतीय संस्कति वैदिक काल से लेकर 21वीं सदी के चन्द्रयान काल तक और
कश्मीर से कन्याकुमारी तथा आसाम से गुजरात तक अपनी कालजयी ज्ञान, ऋ षियों द्वारा पोषित समृद्ध परम्परा, प्राकृतिक वातावरण, खान-पान, रहन-सहन, पहनावे,भाषाओं और अटूट देश प्रेम जैसी अनेक विविधताओं वाला विश्व में अतुलनीय देश है। आपने कहा कि आर.एस.वी. ग्रुप ऑफ स्कूल भी इसी प्रकार से विद्यार्थियों में अनेकता में एकता की भावना संजो रहा है जो कि सराहनीय है।

मोटिवेटर डॉ गौरव बिस्सा ने कार्यक्रम की भूरि-भूरि प्रशंसा की और अपने-अपने उदबोधन में
कहा कि विद्यालय भारतीय संस्क ृति के साथ-साथ आधुनिकता का बेजोड़ संगम है।
कार्यक्रम के अंत में आर.एन. आर.एसवी. स्कूल के व्यवस्थापक रामलाल स्वामी ने शाला की स्थापना से वर्तमान तक की गौरवमयी यात्रा पर प्रकाश डाला और प्राचार्य नीरज और उप प्राचार्या श्रीमती बिंदु बिश्नोई ने सभी का आभार ज्ञापित किया। कार्यक्रम में नृत्य निर्देशन डॉ किंशुक भटनागर एव ं श्रीमती संयोगिता ने किया। संचालन द्वारा श्रीमती रितु शर्मा ने निरंतरता प्रदान की।