अवैध खनन की शिकायत पर आखिर अधिकारी मौन क्यों?,आने लगी है भ्रष्टाचार की बूं - Khulasa Online

अवैध खनन की शिकायत पर आखिर अधिकारी मौन क्यों?,आने लगी है भ्रष्टाचार की बूं

 

खुलासा न्यूज,बीकानेर। जिले में अवैध जिप्सम के खनन को लेकर जिला प्रशासन और सरकार की ओर से अनेक बार कार्यवाहियां करने के आदेश जारी हुए। जिनकी खानापूर्ति करते हुए विभाग और संबंधित थाने छोटी-मोटी कार्यवाही भी की। लेकिन विभागीय मिलीभगती के चलते जिप्सम की कालाबाजारी धड़ल्ले से की जा रही है। मजे की बात यह है कि इसकी शिकायत करने के बाद भी स्थानीय थाना और विभाग की ओर से कार्यवाही करने में रूचि नहीं दिखाई जा रही है। मामला दंतौर व नाल क्षेत्र का है। जहां अवैध जिप्सम के स्टाक होने की शिकायत के बाद भी विभाग व थाना पुलिस नहीं चेत रही है। इसक ो लेकर परिवादी निर्मल कुमार बिन्नाणी ने खनिज अभियंता बीकानेर कार्यालय में शिकायत भी दर्ज की है। लेकिन करीब तीन माह बीत जाने के बाद भी विभाग की ओर से महज कागजी घोड़े दौड़ाकर मामले को रफा दफा करने का प्रयास किया जा रहा है। हालात यह है कि परिवादी की शिकायत पर क्या कार्यवाही की गई। इसको लेकर भी परिवादी को न तो लिखित में और न ही मौखिक रूप से बताया जा रहा है। परिवादी बिन्नाणी ने अपे्रल माह की 15 तारीख को खनिज अभियंता कार्यालय में एक पत्र देकर दंतौर स्थित हाई जिप्सम इन्डस्ट्रीज में दो नंबर के अवैध जिप्सम के स्टॉक की जानकारी दी थी। उन्होनें इस पत्र में अवगत कराया था कि इस इन्डस्ट्रीज में बिना रॉयल्टी और बिना इनकम टैक्स चुकाएं अवैध जिप्सम का स्टॉक पड़ा है। जिसकी अनुमानित मात्रा 9000 टन के आसपास है। वहीं नाल बाईपास स्थित शुभम् प्लास्टर में भी करीब 1000 टन अवैध जिप्सम पड़ा है। जबकि नाल फैक्ट्री एक मार्च 20 से कागजों में बंद की जा चुकी है। इसके बाद भी इन दोनों फैक्ट्रियों में इतनी बड़ी मात्रा में अवैध रूप से जिप्सम पर विभाग की ओर से कोई कार्यवाही न करना सवालिया निशान लगाता है। बताया जा रहा है कि ये फेक्ट्रियां सुबोध कल्याणी पुत्र श्यामसुंदर कल्याणी नामक व्यक्ति की है। जो अपने धन-बल के जरिये परिवादी को अलग अलग लोगों से धमकाने का काम भी कर रहा है। इनकम टैक्स विभाग को भी दी जानकारी,फिर भी नतीजा सिफर बिन्नाणी ने बताया कि इन दोनों फेक्ट्रियों में अवैध रूप से जिप्सम के स्टॉक होने की जानकारी फरवरी 21 में इनकम टैक्स विभाग को भी दी गई है। किन्तु चार माह का समय बीत जाने के बाद भी यहां भी क ार्यवाही की उम्मीद ही की जा सकती है। अब तक कार्यवाही क्यों नहीं हुई। मिली भगती का आरोप उधर बिन्नाणी ने आरोप लगाया कि खनिज विभाग के अधिकारियों-कुछ कार्मिकों से कल्याणी की मिलीभगती है। जिसके चलते विभाग किसी प्रकार की कार्यवाही से बच रहा है। यहीं नहीं कल्याणी ने मेरे खिलाफ भी अनेक झूठे मामले दर्ज करवाएं है। इनके खिलाफ पुलिस थानों में दर्ज मामलों में मेरे पक्ष को सुना नहीं जा रहा है। यहां तक जामसर थाना,कोटगेट व लूणकरणसर पुलिस तो उनका परिवाद लेने से भी आना कानी कर रहा है। विभागों में बार बार प्रार्थना पत्र,फिर भी अधिकारी मौन जानकारी मिली है कि इस मामले को लेकर परिवादी बिन्नाणी ने अनेक बार बार प्रार्थना प्रस्तुत कर आग्रह किया जा चुका है। उसके बाद भी अब तक कोई कार्यवाही न तो खनिज विभाग की ओर से की गई है और न ही इनकम टैक्स विभाग की ओर से। इतना ही नहीं पुलिस महकमें में दर्ज शिकायतों पर भी कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जबकि पुलिस अधीक्षक पुराने मामलों के निस्तारण को लेकर पुलिस थानों को निर्देशित कर चुकी है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp