अशोक गहलोत अब क्या करेंगे? कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ेंगे या सीएम बने रहेंगे - Khulasa Online

अशोक गहलोत अब क्या करेंगे? कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ेंगे या सीएम बने रहेंगे

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में अशोक गहलोत ताल ठोकेंगे या नहीं, या फिर राजस्थान में मुख्यमंत्री की कुर्सी पर ही बने रहेंगे, इसे लेकर सस्पेंस बरकरार है. हालांकि,मुख्यमंत्री गहलोत के करीबी सूत्रों ने जानकारी दी है कि कांग्रेस आलाकमान का फैसला ही अशोक गहलोत के आगे का कदम तय करेगा. फिलहाल, अशोक गहलोत को पार्टीआलाकमान के अगले संदेश का इंतजार है, उसके बाद ही वह कुछ फाइनल फैसला ले पाएंगे. बता दें कि रविवार को गहलोत गुट के विधायकों की बगावत के बाद राजस्थान में कांग्रेस के लिए संकट की स्थिति पैदा हो गई है.सूत्रों की मानें तो प्रभारी और पर्यवेक्षक की रिपोर्ट पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के फैसले के बाद जो भी निर्देश होगा, अशोक गहलोत उसी निर्देशानुसार कदम उठाएंगे. क्याअशोक गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ेंगे? इस सवाल के जवाब में अशोक गहलोत के करीबी सूत्रों ने बताया कि सारी चीजें पार्टी आलाकमान यानी सोनिया गांधी के निर्देशपर तय होगा, क्योंकि अभी मौजूदा स्थिति में रिपोर्ट पर कांग्रेस अध्यक्ष के फैसले या फिर किसी तरह के दूसरे संदेश का इंतजार है.करीबी सूत्र ने यह भी बताया कि अशोक गहलोत की सोनिया गांधी से अभी तक कोई बात नहीं हुई है. बता दें कि कांग्रेस की राजस्थान इकाई में खुली बगावत से नाराज पार्टी अध्यक्षसोनिया गांधी ने सोमवार को पार्टी के पर्यवेक्षकों मल्लिकार्जुन खडग़े और अजय माकन से रिपोर्ट मांगी थी, जिस पर आज फैसला होगा. माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोतके वफादार माने जाने वाले कुछ नेताओं के खिलाफ च्अनुशासनहीनताज् के आरोप में कार्रवाई की जा सकती है. एक तरफ जहां, राजस्थान के सियासी संकट के समाधान के लिए दिल्ली बुलाए गए मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ ने सोनिया गांधी से मुलाकात की, वहीं दूसरी तरफ राजस्थानके सियासी संकट को समझने के लिए पहुंचे पर्यवेक्षक मल्लिकार्जुन खडग़े और प्रदेश प्रभारी अजय माकन जयपुर से दिल्ली वापस लौट गए. माना जा रहा है कि आज वे दोनों दसजनपथ पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात कर राजस्थान के सियासी संकट पर लिखित रिपोर्ट पेश करेंगे
error: Content is protected !!
Join Whatsapp