बेरोजगारी भत्ता भी शर्तों पर मिलेगा: रोजाना 4 घंटे सरकारी ऑफिसों में करना होगा कार्य, तभी 1 जनवरी से मिलेगा भत्ता

जयपुर/बीकानेर। रजिस्टर्ड बेरोजगारों को अब घर बैठे भत्ता नहीं मिलेगा। उन्हें एक जनवरी से इंटर्नशिप करनी होगी जिसमें दो साल तक रोजाना चार घंटे सरकारी महकमों में काम करना पड़ेगा। यही नहीं, सामान्य ग्रेजुएट को तो उससे पहले आरएसएलडीसी तीन माह की ट्रेनिंग भी देगा। एक जनवरी से रोजगार कार्यालय में रजिस्टर्ड उन्हीं बेरोजगारों को भत्ता मिलेगा जिन्होंने प्रोफेशन डिग्री या डिप्लोमा कर रखा है। इनको भी लगातार दो साल तक इंटर्नशिप में सरकारी कार्यालयों में रोजाना चार घंटे काम करना होगा। इसके लिए सरकारी कार्यालयों से उनकी जरूरत के मुताबिक संख्या लेकर सूची बनाने का काम शुरू हो गया है। जो केवल ग्रेजुएट या पीजी हैं, उन्हें इंटर्नशिप से पहले राजस्थान आजीविका विकास निगम से तीन माह की ट्रेनिंग लेनी होगी। आरएसएलडीसी से ट्रेनिंग और सरकारी कार्यालयों में इंटर्नशिप के दौरान ही बेरोजगारों को भत्ता मिलना शुरू हो जाएगा। रोजगार कार्यालय के सहायक निदेशक हरगोविन्द मित्तल ने बताया कि 23 सरकारी महकमों की एक कमेटी गठित की गई है। बेरोजगारों को इन महकमों में इंटर्नशिप के लिए भेजा जाएगा। ट्रेनिंग और इंटर्नशिप करने वाले मेल बेरोजगारों को 4000 और फीमेल बेरोजगारों को 4,500 रुपए भत्ता मिलेगा।अब तक रजिस्टर्ड 16591 बेरोजगार हैं जो कतार में हैं। इन्हीं में से प्राथमिकता के आधार पर चयन किया जाएगा।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp