नकल गिरोह का मास्टर माइंड तुलछाराम पुलिस के लिये बना चुनौती,अब भतीजे के जरिये नकल की तैयारी,एक गिरफ्तार

खुलासा न्यूज़ , बीकानेर । पटवारी भर्ती परीक्षा में नकल का बड़ा भंडाफोड़ करने वाली बीकानेर पुलिस ने पटवारी परीक्षा के दौरान बड़ी सफलता हासिल की है। नकल वाली चप्पल और खास डिवाइस बनाने वाला वांटेड तुलसाराम कालेर के भतीजे सौरव कालेर के घर पर पुलिस ने छापा मारा। इस बीच सौरव तो फरार हो गया लेकिन उसके यहां से बड़ी मात्रा में नकल का सामान बरामद हुआ है। पुलिस ने शनिवार की कार्रवाई में चार को नामजद किया है। जबकि दो की गिरफ्तारी हो गई है।गंगाशहर पुलिस को मुखबीर से सूचना मिली थी कि तुलसाराम का भतीजा पटवारी परीक्षा में नकल की सामग्री बेच रहा है। इस पर देर रात करीब ढ़ाई बजे जयनारायण व्यास कॉलोनी पुलिस ने उसके घर पर छापा मारा। वहां से सौरव तो भाग गया, लेकिन काफी मात्रा में नकल का सामान पुलिस को मिला है। जिसे जब्त कर लिया गया है। पुलिस ने उम्मेदाराम नामक एक युवक को नकल की सामग्री खरीदने के मामले में गिरफ्तार किया है। वो अपने किसी रिश्तेदार के लिए नकल सामान लेने की कोशिश में था। उसके अलावा गंगाशहर पुलिस ने चौधरी कॉलोनी निवासी राजाराम को ब्ल्यू ट्रूथ के साथ गिरफ्तार किया है। वो मूल रूप से कानासर का रहने वाला है। गंगाशहर थानाधिकारी राणीदान चारण ने बताया कि इस मामले में अभी और गिरफ्तारी होनी है।

  https://youtu.be/n-g9aJHjEA0    

चार लोगों को पकड़ लिया आज और कल चार पारियों में होने वाली पटवारी परीक्षा का मुहुर्त भी नकल गिरोह के साथ हो गया है। नकल गिरोह ने परीक्षा में सेंध लगाने की कोशिश की] लेकिन पुलिस की मुस्तैदी के कारण और सघन जांच पड़ताल के चलते गिरोह के चार लोगों को पकड़ लिया। उनसे पूछताछ की जा रही है। पूरा घटनाक्रम बीकानेर जिले का है। बीकानेर जिले में गंगा शहर और जेएनएवी थाना पुलिस की टीम ने इस गिरोह को एक सेंटर से पकड़ा है।बताया जा रहा है कि जिन चार लोगों को पकड़ा गया है उनमें से दो नामजद हैं और अपराधिक प्रवृति के हैं। उनके खिलाफ पूर्व में भी मुकदमे दर्ज होने की जानकारी सामने आ रही है। फिलहाल बीकानेर पुलिस ने इस मामले में ज्यादा जानकारी नहीं दी है। हांलाकि पुलिस ने बताया है कि मोबाइल फोन से जुडऩे वाले उपकरण भर मिले हैं। बताया जा रहा है चारों संदिग्धों को नकल कराने के उपकरण देने वाला मास्टरमाइंड कोई अन्य है और वह इस रेड के बार से ही फरार हो गया है। उसका नाम पोरव कालोर बताया जा रहा है। जिन चार को पकड़ा गया है उनमें से दो अभ्यर्थी और दो उनके सहयोगी बताए गए हैं। गौरतलब है कि करीब एक महीने पहले आयोजित हुई रीट परीक्षा में नकल कराने के लिए छह लाख रुपए कीमत में बेची गई नकल डिवाईस लगी चप्पल बनाने वाला तुलसाराम भी बीकानेर से ही था। नकल से जुड़े तुलासाराम की गैंग के सात से आठ लोग परीक्षा से पहले पकड़े गए थे। उन्होंने पुलिस को बताया कि उनको छह लाख तक में चप्पलें बेची गई थी। उनकी गिरफ्तारी के बाद तुलसाराम फरार हो गया जो अभी तक फरार ही है। वह पहले भी चार परीक्षाओं में सेंध लगा चुका है और अजमेर में पोस्टेड एक महिला आरपीएस का पति है।

तुलछाराम फरारी के बावजूद अपने भतीजे के माध्यम से करवा रहा है नकल 

थानाधिकारी राणीदान चारण ने बताया कि चौधरी कॉलोनी निवासी राजाराम विश्नोई को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं रीट में नकल गिरोह के मास्टरमाइंड तुलछाराम कालेर के भतीजे के खिलाफ व्यास कॉलोनी थाने में मुकदमा करवाया गया है। हालांकि तुलछाराम का भतीजा पौरव कालेर हाथ नहीं लग पाया। राजाराम से पांच मोबाइल, नकल  डिवाइस, मक्खी सहित अन्य उपकरण बरामद हुए हैं। इस बार नकल चप्पल से करवाने के बजाय तरीका बदल लिया गया है। बता दें कि रीट परीक्षा में नकल मामले में पुलिस तुलछाराम की तलाश कर रही है। नकल करवाकर सिस्टम को दीमक की तरह चाट रहा तुलछाराम फरारी के बावजूद अपने भतीजे के माध्यम से नकल करवा रहा है। पटवारी परीक्षा में नकल मामले में राजाराम, तुलछाराम के भतीजे पौरव का गुर्गा है। उल्लेखनीय है कि इस कार्रवाई में गंगाशहर थानाधिकारी राणीदान चारण व साईबर सैल के हैड कांस्टेबल दीपक यादव का विशेष योगदान रहा।

error: Content is protected !!