बीएसटीसी संस्थान में नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म के उसकी मौत के मामले में पीटीआई सहित तीन जने दोषी

बीकानेर। पूरे देश में वर्ष 2016 में बीकानेर का नोखा का नाम चर्चित हुए उसका मुख्य कारण है एक नाबालिग छात्रा के साथ दुष्कर्म के बाद उसकी मौत हो जाने के कारण। जानकारी के अनुसार नोखा के प्राइवेट बीएसटीसी संस्थान में नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म और उसकी मौत के मामले में पीटीआई सहित तीन आरोपियों को दोषी माना है। सोमवार को तीनों दोषियों को सजा सुनाई जाएगी। वर्ष, 16 में बाड़मेर निवासी 17 साल की नाबालिग युवती नोखा के जैन आदर्श कन्या शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान में बीएसटीसी कर रही थी। वह सैकंड ईयर की छात्रा थी और संस्थान में बने हॉस्टल में ही रहती थी। आरोप है कि 28 मार्च, 16 की रात को हॉस्टल वार्डन प्रिया शुक्ला ने छात्रा को जबरन पीटीआई विजेन्द्रसिंह के रूम में भेजा जहां उसने दुष्कर्म किया। छात्रा अपने रूम में नहीं थी तो उसे ढूंढ़ा गया और वह पीटीआई के रूम में मिली। संस्थान प्रशासन ने पीटीआई और छात्रा दोनों से माफीनामा लिखाकर छोड़ दिया। अगले दिन सुबह 29 मार्च को हॉस्टल परिसर में बने पानी के कुंड से छात्रा का शव बरामद हुआ।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp