बीकाणा के चौपालों पर गणगौर महोत्सव की रंगत - Khulasa Online

बीकाणा के चौपालों पर गणगौर महोत्सव की रंगत

विप्र सेना के प्रदेश महामंत्री रविन्द्र जाजड़ा ने जानकारी देते हुए बताया कि बीकानेर को छोटी काशी नाम से इसलिए जाना जाता है क्योंकि यह हर दिन त्योहार की तरह मनाया जाता है इसी प्रकार अभी गणगौर का शहर पूरे में खूब हर्षोल्लास चल रहा है, आज पारम्परिक गणगौरी गीतों से घर-घर गूंज रहे है गंगाशहर नेमीचंद पंचारिया के घर गणगौर पूजन उत्सव में बालिकाएं व युवतियां अच्छे वर और अच्छे घर की कामना को लेकर मां पार्वती स्वरूप गणगौर का पूजन कर रही है घरों की छतों पर मिटटी के पालसिए में रखी होलिका दहन के राख से बनी पिंडोलियों का अबीर, गुलाल, इत्र, पुष्प से गणगौरी गीतों के गायन के बीच पूजन कर रही है। इस दौरान अबीर, गुलाल से विभिन्न प्रकार के चित्र भी बना रही है। गणगौर पूजन उत्सव के दौरान दांतणिया देने, घुड़ला घुमाने, गवर का बासा देने और गणगौर गोठों के आयोजन भी हो रहा है पूजन उत्सव की पूर्णाहुति पर गवर को पूगाने की रस्म होगी इस दौरान शहर में कई स्थानों पर मेले भरेंगे। गणगौर प्रतिमाओं का पूजन भी होगा इस कार्यक्रम में कंचन, खुसबू, सुमित्रा पंचारिया, कपिला जाजड़ा,अन्नपूर्णा, हनी,ऋषिका, कनिष्का, तन्वी,मीना,उन्नति,राधा,प्रियंका,जिया,गोरी,ज्योति आदि मौजूद रहे
error: Content is protected !!
Join Whatsapp