बीकानेर की लड़कियां फंसी कजाकिस्तान में, सब पाबंदी, नहीं हो पा रही घरवालों से बात

खुलासा न्यूज, बीकानेर। पेट्रोल व डीजल के दामों में लगी आग के बीच कजाकिस्तान में मचे उपद्रव में भारत के करीब सात हजार स्टूडेंट्स फंस गए हैं। ये स्टूडेंट्स वहां एमबीबीएस सहित कई कोर्स करने के लिए गए हुए हैं। हालांकि सभी भारतीय स्टूडेंट्स सुरक्षित हैं। अपने घर से दूर फिलहाल हॉस्टल में कैद हैं। कहीं भी आने-जाने पर पाबंदी है। सोशल मीडिया पर रोक के चलते कुछ दिन स्टूडेंट्स अपने घर वालों से बात नहीं कर सके। कजाकिस्तान में पढऩे वाले सात से आठ हजार स्टूडेंट्स में आधे से ज्यादा राजस्थान व गुजरात के हैं। इनमें भी राजस्थान के स्टूडेंट्स की संख्या अधिक है। बीकानेर से कई लड़कियां भी वहां पढ़ रही है। इन्हीं में एक किरण व्यास ने मीडिया से बातचीत में बताया कि हम सभी हॉस्टल में कैद है। बाहर आसपास की दुकान से अब सामान ला सकते हैं। पहले तो बाहर निकलने पर ही पाबंदी थी। मॉल इत्यादि में जाने पर अब भी रोक है। नेट बंद है, इसलिए घरवालों से बात नहीं हो पा रही है।

बता दें कि कजाकिस्तान में इन दिनों इमरजेंसी लगी हुई है। 19 जनवरी तक इमरजेंसी के चलते वहां नेटबंदी भी हो रही है। बड़े मॉल व मुख्य मार्गों पर आवागमन पर सेना तैनात है। ऐसे में हॉस्टल में रहने वाले स्टूडेंट्स को बाहर जाने की इजाजत नहीं मिल रही है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp