12वीं बोर्ड का फिर बदला सिलेबस

बीकानेर।माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने चित्रकला के दो चैप्टर को शिक्षा सत्र 2021-22 की वार्षिक परीक्षा के लिए हटा दिया है।

12वीं बोर्ड की मुख्य परीक्षा में चित्रकला के विद्यार्थियों को ‘पांडुलिपि चित्रकला परंपरा’ और ‘आधुनिक भारतीय कला’ चैप्टर से संबंधित प्रश्न नहीं पूछे जाएंगे। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने इन दोनों ही चैप्टर को शिक्षा सत्र 2021-22 की वार्षिक परीक्षा के लिए हटा दिया है। दरअसल, कोविड-19 में स्कूल विलंब से खुलने के कारण बोर्ड ने पाठ्यक्रम में 30% की कटौती की है। 12वीं बोर्ड में चित्रकला विषय का सिलेबस इसी साल बदला गया है।

नया सिलेबस होने के कारण इससे संबंधित पाठ्यपुस्तके अभी तक तैयार नहीं हो पाई है। अर्द्धवार्षिक परीक्षा भी विद्यार्थियों को बिना किताबों के ही देनी पड़ी। चित्रकला विषय के शिक्षकों ने इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा निदेशक को अवगत कराया। जिसके बाद माध्यमिक शिक्षा बोर्ड में संशोधित पाठ्यक्रम से संबंधित अध्ययन सामग्री बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड कर दी है।

चित्रकला विषय के अभ्यर्थियों को 6 चैप्टर से प्रश्न पूछे जाएंगे। जिसमें राजस्थानी चित्रकला शैलियां, मुगल लघु चित्रकला, दक्कनी चित्र शैलियां,पहाडी चित्रकला शैली, बंगाल शैली और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद, भारत की जीवंत कला परंपराए सहित छ: अध्याय शामिल किए गए है।

जनवरी-फरवरी में प्रैक्टिकल एग्जाम, मार्च में वार्षिक परीक्षा: जनवरी से फरवरी में भूगोल, गृह विज्ञान, चित्रकला सहित अन्य सभी प्रायोगिक विषय की परीक्षाएं आयोजित होनी है। विधार्थियों पर प्रायोगिक वर्क सहित अन्य विषय का शिक्षण भार रहेगा। ऐसे में स्टूडेंट्स सिलेबस में कटौती की मांग कर रहे हैं। स्टूडेंट का कहना है कि 6 महीने से पुस्तक उपलब्ध नहीं हुई। जिस कारण चित्रकला विषय का शिक्षण नहीं हुआ। अब मात्र दो महीने में कोर्स कैसे होगा। जिसमें अन्य विषय की पढाई भी करनी है कोर्स कम किया जाए।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp