REET : पुलिसवाले ने 5 लाख में सौदा किया था, न पेपर दिया, न राशि लौटाई, कॉन्स्टेबल गिरफ्तार

REET पेपर दिलाने के नाम पर 5 लाख में सौदा करने वाले एक कॉन्स्टेबल को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया है। एडवांस के रूप में उसने 2 लाख रुपए ले भी लिए थे। अभ्यर्थी ने आरोप लगाया कि कॉन्स्टेबल ने पेपर तो दिए नहीं। अब रकम भी नहीं लौटाई। दौसा कोतवाली में इस बाबत उसने FIR दर्ज कराई है। SOG ने कॉन्स्टेबल को गिरफ्तार कर लिया है। उससे पूछताछ शुरू हो गई है। पुलिस को उम्मीद है कि गैंग के अन्य सदस्यों के बारे में भी जानकारी मिल जाएगी।

कोरोना ने किया बेरोजगार

कोतवाली में गुप्तेश्वर रोड दौसा निवासी लोचन प्रसाद शर्मा ने एफआईआर दर्ज कराई है कि उसने बीएड कर रखी है तथा वह एक निजी स्कूल में पढ़ाता था। कोरोना के दौरान स्कूल बंद होने से बेरोजगार हो गया तथा प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने लगा। पिछले दिनों REET आयोजित होने के दौरान उसका सेंटर जयपुर जिले के भांकरोटा में आया था। इस दौरान परीक्षा से करीब 15 दिन पहले उसकी पत्नी के रिश्तेदार कॉन्स्टेबल मनीष शर्मा से उसकी बातचीत हुई। मनीष पुलिस लाइन दौसा में तैनात है।

सवाईमाधोपुर से जुड़े हैं गिरोह के तार

कॉन्स्टेबल ने REET का पेपर दिलवाने के बदले 15 लाख रुपए की डिमांड की थी। लोचन प्रसाद ने इतनी बड़ी रकम देने में असमर्थता जताई। बाद में 5 लाख रुपए में सौदा तय हुआ। परीक्षा से पहले कॉन्स्टेबल ने उसे जयपुर बुलाकर संजय मीणा नाम के युवक से मिलाया। संजय ने उसे दुर्गापुरा स्थित कमरे पर बुलाया। वहां सवाईमाधोपुर निवासी दिलखुश मीणा लेने आया। संजय मीणा के पास पहुंचने पर तय हुए सौदे के अनुसार उसे 2 लाख रुपए दिए।

झांसा दिया- रात को आएगा पेपर

संजय मीणा उसे राजस्थान हॉस्पिटल ले गया, जहां कई अन्य लड़कों के साथ उसे मानसरोवर के नारायण विहार स्थित एक मकान में रखा गया। संजय ने कहा कि रात को पेपर आएगा, जिसकी तैयारी कराई जाएगी। सुबह तक पेपर नहीं आया। सभी बिना तैयारी के ही पेपर देने चले गए। कॉन्स्टेबल मनीष शर्मा, संजय मीणा व दिलखुश मीणा ने उसे पेपर दिलाने का झांसा देकर 2 लाख की ठगी की। मनीष ने दबाव बढ़ता देख 99 हजार रुपए ऑनलाइन ट्रांसफर कर लौटा दिए। बाकी पैसा देने से इनकार कर दिया। कहा कि तुम बिना बताए परीक्षा सेंटर पर चले गए। इसलिए संजय मीणा तुम्हारे पैसे वापस नहीं देगा। मामले की जांच कर रहे अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. लालचंद कायल ने बताया कि संजय मीणा व दिलखुश मीणा को एसओजी पूर्व में गिरफ्तार कर चुकी है।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp