जनसंपर्क अलंकरण: लाइफ टाइम अचीवमेंट जयपुर के ओझा और जनसंपर्क रत्न बीकानेर के चौहान को - Khulasa Online जनसंपर्क अलंकरण: लाइफ टाइम अचीवमेंट जयपुर के ओझा और जनसंपर्क रत्न बीकानेर के चौहान को - Khulasa Online

जनसंपर्क अलंकरण: लाइफ टाइम अचीवमेंट जयपुर के ओझा और जनसंपर्क रत्न बीकानेर के चौहान को

जनसंपर्क अलंकरण: लाइफ टाइम अचीवमेंट जयपुर के ओझा और जनसंपर्क रत्न बीकानेर के चौहान को
बीकानेर, 21 अप्रैल। पब्लिक रिलेशंस एंड एलाइड सर्विस एसोसिएशन ऑफ राजस्थान (प्रसार) की बीकानेर इकाई द्वारा दिए जाने वाले वार्षिक पुरस्कारों की घोषणा शुक्रवार को राष्ट्रीय जनसंपर्क दिवस के अवसर पर की गई।
प्रसार के प्रदेश उपाध्यक्ष (क्षेत्रीय) हरि शंकर आचार्य ने बताया कि इस वर्ष का श्री घनश्याम गोस्वामी स्मृति लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार जनसंपर्क विभाग के सेवानिवृत्त संयुक्त निदेशक श्री बाल मुकुंद ओझा को दिया जाएगा। इसी प्रकार श्री किशन कुमार व्यास ‘आजाद’ स्मृति जनसंपर्क रत्न अवार्ड विभाग के सेवानिवृत्त सहायक निदेशक श्री अमर सिंह चौहान को अर्पित किया जाएगा।
आचार्य ने बताया कि प्रसार की बीकानेर इकाई द्वारा वर्ष 2020 से प्रतिवर्ष यह सम्मान दिया जा रहा है। इसी श्रंखला में इस वर्ष के पुरस्कार घोषित हुए। चूरु में जन्मे श्री ओझा वर्ष 1974 से 1979 तक अधिस्वीकृत पत्रकार रहे। बाद में जनसंपर्क सेवाओं में आए। वर्ष 2013 में सेवानिवृत्त होने के पश्चात स्वतंत्र लेखन कर रहे हैं। उनकी कई पुस्तकें भी प्रकाशित हुई हैं। वहीं जनकवि प्रदीप शर्मा साहित्य पुरस्कार और अहिंसा सेवा सम्मान से भी विभूषित हुए हैं। वहीं बीकानेर के अमर सिंह चौहान ने जैसलमेर से जनसंपर्क सेवाओं की शुरुआत की। चौहान बीकानेर, सिरोही, भीलवाड़ा, नागौर, चूरु, श्रीगंगानगर आदि जिलों में पदस्थापित रहे हैं। अगस्त 2016 में सहायक निदेशक के रूप में सेवानिवृत्त हुए।
पुरस्कार चयन समिति की अनुशंसा पर यह चयन किए गए हैं। सम्मान समारोह आचार सहिता की समाप्ति के पश्चात आयोजित होगा।
जनसंपर्क की दिशा और दशा पर हुई चर्चा
जनसंपर्क दिवस पर प्रसार की ओर से जनसंपर्क विभाग के सेवानिवृत्त संयुक्त निदेशक दिनेश चंद्र सक्सेना की अध्यक्षता में जनसंपर्क की दिशा और दशा विषय पर मंथन किया गया। सक्सेना ने कहा कि बदलते दौर में जनसंपर्क के माध्यमों में बदलाव हुआ है। आज जनसंपर्क के लिए सोशल मीडिया का प्राथमिकता से उपयोग हो रहा है। उन्होंने तीन दशक पूर्व और आज के जनसंपर्क परिदृश्य पर विचार रखे। प्रसार उपाध्यक्ष आचार्य ने कहा कि जनसंपर्क सरकारों अथवा किसी भी संस्थान या संगठन की नीतियों और उत्पादों की जानकारी लक्षित वर्ग तक पहुंचाने का सशक्त माध्यम है। इस दौरान जनसंपर्क अधिकारी भाग्यश्री गोदारा, सहायक जनसंपर्क अधिकारी निकिता भाटी, जिला परिषद के आईईसी कॉर्डिनेटर गोपाल जोशी, पीआर मित्र क्लब के डॉ. चंद्र शेखर श्रीमाली, सुधीर मिश्रा, भवानी सोलंकी ने भी मास कम्युनिकेशन और पब्लिक रिलेशंस पर अपनी बात रखी।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp 26