रिटायर कर्मचारी के खाते से रूपये निकालने वाला युवक व उसकी मंगेतर को पुलिस ने दबोचा, रूपये किये बरामद - Khulasa Online

रिटायर कर्मचारी के खाते से रूपये निकालने वाला युवक व उसकी मंगेतर को पुलिस ने दबोचा, रूपये किये बरामद

बीकानेर। रिटायर कर्मचारी के रिश्तेदार ने अपनी मंगेतर के साथ मिलकर बैंक खाते से 19 लाख 80 हजार रुपए निकाल लिये। जब इसका पता रिटायर कर्मचारी को चला तो होश उड़ गए। हालांकि नयाशहर थाना पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए धोखाधड़ी का पर्दाफाश कर एक युवक व युवती को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से पूरी राशि बरामद की। पुलिस के अनुसार आरोपियों की एक-दूसरे से सगाई हो रखी है। दोनों ने मिलकर इस पूरे षड्यंत्र को अंजाम दिया और रिटायर कर्मचारी के बैंक खाते से लाखों रुपए निकाल लिये। 29 अप्रैल को दम्माणी चौक निवासी महावीर प्रसाद पुत्र नारायण प्रसाद जाति सारस्वत उम्र 61 वर्ष ने नयाशहर पुलिस थाने में एक लिखित रिपोर्ट दी कि मेरा एसबीआई बैंक जस्सुसर ब्रांच में सैविंग अकाउण्ट है। जिससे मैंने चैक बुक जारी करवा रखी है। उक्त चैक बुक में से किसी अज्ञात व्यक्ति ने मेरा हस्ताक्षरित चैक मेरे घर से चुराकर 27 अप्रैल को दिन में करीब 12:30 बजे मेरा खाता में सेल्फ चैक लगाकर बैंक मैनेजर के साथ आपराधिक षडयन्त्र रचकर बिना मुझे जानकारी दिये तथा बैंक द्वारा मुझे फोन या मैसेज किये बिना मेरे खाता से 19,80000 रुपये धोखाधड़ी करते हुए निकाल लिये। जिसकी जानकारी आज मुझे बैंक से पैसे निकलवाने के लिये जाने पर प्राप्त हुई। उक्त अज्ञात व्यक्ति व उनके साथ मिले हुवे और बैंक मैनेजर के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करके कानूनी कार्यवाही करें। इस पर पुलिस ने धारा 380,420,451, 120 बी के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की रिटायर कर्मचारी महावीर प्रसाद के रिटायरमेन्ट पर मिले समस्त परिलाभ की राशी एक ही चैक से आहरित कर ली गई तथा परिवादी ने पुलिस जांच में बताया की मेरा पुत्र अजय सारस्वत जयपुर अस्पताल में भर्ती हैं जिसके इलाज के लिये रुपये निकालने गया तब पता चला कि उसके बैंक खाते से पैसे निकल गए। घटना की गंभीरता एवं संवेदनशीलता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक योगेश यादव द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर अनीत कुमार, पुलिस उप अधीक्षक वृत्त नगर दीपचन्द के निकट सुपरविजन में थाना अधिकारी थाना नयाशहर गोविन्दसिंह चारण के नेतृत्व में टीम गठीत की गई। इस टीम द्वारा तेजी से अनुसंधान करते हुए एस.बी.आई. बैंक शाखा जस्सुसर गेट में लगे सीसीटीवी फुटेज प्राप्त किए गए। जिसमें एक महिला जवान उम्र की बैंक के कैशियर से राशी प्राप्त करते हुए दिखाई दी। उक्त महिला के हुलिये के आधार पर पीडि़त के घर के आसपास पीडि़त के परिजनों एवं पुलिस मुखबीरान को तथा पीडि़त महावीर प्रसाद एवं उसके परिवार के समस्त सदस्यों से गहनता से एवं मनोवैज्ञानिक तरिके से पूछताछ की। क्योंकि पुलिस को घटना की कार्यप्रणाली में प्रथमदृष्टया लग गया था की घटना किसी परिवार के सदस्य या निकट परिचित द्वारा की गई है। घटना को खोलना इससे और चेलेजिंग हो गई। पारिवारिक सदस्यों से विस्तृत पुछताछ के दौरान पीडि़त महावीर प्रसाद के साले का लड़का गंजानन्द औझा जो चार्टड एकाउण्टर फाइनल वर्ष का विद्यार्थी है तथा महावीर प्रसाद के रिटायरमेन्ट फंड रिलिज के लिये साथ-साथ रहा तथा घटना होने के बाद में तथा अनुसंधान के दौरान भी लगातार साथ-साथ घुम रहा था तथा उसकी गतिविधियां संदिग्ध नजर आने लगी। इस पर गजानन्द औझा की पुलिस ने कुण्डली खगाली तो ज्ञात हुआ की गजानन्द की सगाई उसके साथ पढऩे वाली ही लड़की चार्टड एकाउन्टेट (सी.ए.) अन्नपूर्णा सारस्वत से हो रखी है। इस पर अन्नपूर्णा सारस्वत का हुलिया भी बैंक केश काऊण्टर पर राशी उठाने वाली लड़की से मिल गया, लेकिन चैक के पिछे हस्ताक्षर करने वाली लड़की के हस्ताक्षर अंकीता लिखा हुआ था, लेकिन गजानन्द से सख्ती से पुछताछ पर राजानन्द ओझा ने राज उगल दिया। इस पर गजानन्द पुत्र रमेश ओझा उम्र 29 वर्ष निवासी ब्राह्मणों का मोहल्ला पुरानी लाईन गंगाशहर एवं मंगेतर अन्नपूर्णा सारस्वत को गिरफ्तार कर लिया तथा दौराने पुछताछ गजानन्द ओझा की सूचना से उसके कब्जे से 19 लाख 80. हजार रूपये बरामद कर लिये गए। दोनों आरोपियों से गहनता से पूछताछ कर प्रकरण में बैंककर्मियों की भूमिका के बारे में गहनता से पूछताछ की जा रही है। प्रारम्भिक पूछताछ में मुख्य आरोपियों ने लालच में आकर ऐश आराम करने के लिये घटना करना बताया।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp