पीबीएम हकीकत: जे वार्ड में डॉक्टर, नर्सिंग इंचार्ज, सब गायब, अधीक्षक साहब नींद से जागिए

- कुशालसिंह मेड़तिया की विशेष रिपोर्ट खुलासा न्यूज, बीकानेर। बेहतर स्वास्थ्य सेवा के तमाम दावे धरातल पर खोखले है। संभाग के सबसे बड़े अस्पताल पीबीएम में रात्रि आठ बजे के बाद मुकम्मल इंतजाम मिले यह दावा भी कागजों तक सीमित है। उपचार की सेवाएं राम भरोसे है। रात में उपचार इमरजेंसी तक सीमि है। चूंकि रात में डॉक्टर न होने की वजह से यह डॉक्टरों की सुविधाएं मरीजों को नहीं मिलती। भर्ती मरीज कराहते रहते है। खुलासा न्यूज ने पड़ताल की तो पीबीएम हॉस्पीटल की हकीकत सामने आई। जांच पड़ताल की तो सामने आया कि रात्रि 9 बजे जे वार्ड में ना तो डॉक्टर मिले ना नर्सिंग इंचार्ज दिखाई दिए। करीबन आधे घंटे तक नजर नहीं आए। नर्सिंग इंचार्ज की सीट पर सिक्योरिटी गार्ड बैठा मिला। जब सिक्योरिटी गार्ड से बातचीत की और डॉक्टर और नर्सिंग इंचार्ज के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि डॉक्टर व नर्सिंग इंचार्ज काम से बाहर गए है। यह सब जानते हुए भी पीबीएम प्रशासन मौन क्यों है ? जब बच्चा-बच्चा जान रहा है तो पीबीएम अधीक्षक इस पर कार्यवाही क्यों नहीं करते ? अगर यहीं सिस्टम रहा तो पीबीएम की कमाई हुई साख खत्म हो जाएगी। अब देखने वाला विषय यह है कि इस गंभीर मसले पर क्या कार्यवाही होती है।

https://www.youtube.com/watch?v=4YaV_pa24PM
error: Content is protected !!
Join Whatsapp