अब सांसद-कलेक्टर की नहीं चलेगी सिफारिश, वरीयता के आधार पर मिलेगा प्रवेश - Khulasa Online

अब सांसद-कलेक्टर की नहीं चलेगी सिफारिश, वरीयता के आधार पर मिलेगा प्रवेश

पाली. केंद्रीय विद्यालयों में प्रवेश के लिए अब सांसद-कलेक्टर की सिफ ारिश नहीं चलेगी। केंद्रीय विद्यालय संगठन मुख्यालय नई दिल्ली ने प्रदेश के 78 केंद्रीय विद्यालयों सहित देशभर में संचालित 1249 केंद्रीय विद्यालयों में सांसदों व कलेक्टर के साथ.साथ 17 विशेष श्रेणियों में प्रवेश को लेकर विशेष कोटे का प्रावधान पर रोक लगा दी है। प्रदेश में 78, देश में 1249 स्कूल पहले केंद्रीय कर्मचारियों के बच्चों कोए इसके बाद राज्य कर्मचारियों के बच्चों को वरीयता, सीटें खाली रहने पर अन्य बच्चों को प्रवेश अब इन केंद्रीय विद्यालयों में बच्चों के प्रवेश वरीयता के आधार पर हो सकेंगे। पिछले सत्र में शिक्षामंत्री ने अपने कोटे से प्रवेश देने की प्रक्रिया को भी बंद कर दिया था। अब इस सत्र से सांसदों व कलेक्टरों के कोटा भी रोक दिया है। हालांकि यह रोक अस्थायी मानी जा रही है, लेकिन जानकारों का कहना है कि यह जारी रहेगी। पाली में एक केंद्रीय विद्यालय होने के साथ.साथ जालोर.सिरोही सहित प्रदेश में 78 केंद्रीय विद्यालय संचालित हैं। गौरतलब है कि अभी प्रवेश प्रक्रिया चल रही है। अब यह रहेगी प्रवेश प्रक्रिया पहली कक्षा में 40 सीट, 500 से शुरू होती है फ ीस केंद्रीय विद्यालय में पहली कक्षा में 40 सीटें हैं। इसके साथ ही प्रवेश के लिए न्यूनतम आयु 6 वर्ष होनी चाहिए। पहली व दूसरी कक्षा में फ ीस 500 रुपए है। वहीं, कक्षा 3 से 8 तक 600, 9 से 10 के लिए 800 रुपए है। इसके साथ ही कक्षा 11 व 12 में संकाय के अनुसार 1000 से 1200 के बीच फीस है। वर्तमान में पाली के केंद्रीय विद्यालय में प्रथम वर्ष में आवेदन लिए गए हैं। अब तक कलेक्टर 12 सीट और सांसद 10 सीटों की अनुशंसा कर सकते थे जिले में संचालित केंद्रीय विद्यालय में कलेक्टर अपने कोटे से 12 विद्यार्थियों का प्रवेश करा सकता है। वहीं, सांसद अपने लोकसभा क्षेत्र में संचालित केंद्रीय विद्यालयों में 10 सीट पर प्रवेश के लिए सिफ ारिश कर सकता था। इसके साथ ही 17 विशेष श्रेणियों में प्रवेश के कोटे को भी समाप्त कर दिया है। इसके अलावा प्रदेश के लोकसभा से 25 व राज्यसभा से 10 सांसदों का कोटे पर भी रोक लगा दी है।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp 26