अब बिना ट्रेवल हिस्ट्री के ही आ रहे है पॉजिटिव - Khulasa Online

अब बिना ट्रेवल हिस्ट्री के ही आ रहे है पॉजिटिव

बीकानेर। जिले में पिछले एक महीने कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ रहे मामले में शहरवासियों का चिंता बढ़ा दी है। जानकारी मिली है कि अब जितने पॉजिटिव आ रहे है उनमें कईयों की तो ट्रेवल हिस्ट्री तक ही नहीं है। ये नये मामले या तो पीबीएम की कड़ी के हिस्से है या बिना किसी संक्रमित के है। मंगलवार दोपहर आएं तीन नये केस में ऐसा ही हुआ है। दो जनों की कोई ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। जबकि एक पॉजिटिव के संक्रमित के संपर्क में आना बताया जा रहा है। सीएमएचओ डॉ बी एल मीणा के अनुसार सोनगिरी क्षेत्र का  पूर्व में इसी क्षेत्र से पॉजिटिव आएं संक्रमित के संपर्क में रहा। इसी तरह मुक्ता प्रसाद सेक्टर 13 के 59 वर्षीय वृद्व  सोनगिरी निवासी 17 युवति है कमला कॉलोनी क्षेत्र के युवक की कोई ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। ऐसे में बीकानेर में भी अब कम्युनिटी स्प्रेड का खतरा बढऩे की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता। जांच में देरी पड़ न जाएं भारी गौरतलब रहे कि पॉजिटिव रोगी के आने के बाद चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी रोगी को लेने तो तुरंत पहुंच जाते है। लेकिन पॉजिटिव वाले इलाके में जांच शिविर लगाने में दो से तीन दिन का समय ले रहे है। शिकायतें तो यहां तक आई है कि संक्रमितों के परिवार वालों को ही होम क्वारेन्टाईन कर दिया जाता है। ऐसे में ये संक्रमित परिवार के लोगों से कितने लोग मिलते है या उनके संपर्क में आते है। इसकी मॉनिटरिंग स्वयं पर छोड़ दी जाती है। कम्‍युनिटी स्‍प्रेड की आशंका बीकानेर में कोरोना के कम्‍युनिटी स्‍प्रेड की आशंका को लेकर खुलासा ने विशेषज्ञों से जानकारी ली तो सामने आया कि कि बीकानेर अभी भी कम्‍युनिटी स्‍प्रेड की श्रेणी में नहीं आता है। बीकानेर की स्थिति कोरोना के नमूने, संक्रमितों की संख्‍या और संक्रमितों के ठीक होने आंकड़ों से काफी अच्‍छी है। बीकानेर में कोरोना संक्रमण कम्‍युनिटी स्‍प्रेड की तरफ ना बढ़े इसके लिये जिला प्रशासन अत्‍यधिक सतर्कता के साथ काम कर रहा है। क्‍या है कम्युनिटी स्प्रेड डब्‍ल्‍यूएचओ के अनुसार कम्युनिटी स्प्रेड कोरोना वायरस की तीसरी स्टेज है। जब कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति आपके क्षेत्र में आता है यह कोरोना संक्रमण की पहली स्‍टेज कहलाती है। यदि कोरोना संक्रमित व्‍यक्ति के संपर्क में आये लोग भी कोरोना संक्रमित हो जाएं तो यह कोरोना संक्रमण की दूसरी स्‍टेज मानी जाती है। इसी प्रकार जब बिना किसी सोर्स के कोई व्‍यक्ति संक्रमित रिपोर्ट हो तो इसे कोरोना संक्रमण की तीसरी स्‍टेज होती है। यानी कोई व्‍यक्ति कोरोना पीडि़त कैसे हुए ये पता ही नहीं चल रहा है तब कम्युनिटी स्प्रेड का डर बढ जाती है।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp