केन्द्रीय डाक कर्मचारियों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल 28-29 मार्च को - Khulasa Online

केन्द्रीय डाक कर्मचारियों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल 28-29 मार्च को

बीकानेर।  जोईन्ट काउन्सलिंग ऑफ एक्शन (PICA) केन्द्रीय मुख्यालय, नई दिल्ली के आह्वान पर  28 एवं 29 मार्च 2022 को राजस्थान के सभी डाक कर्मचारियों ने दो दिन की राष्ट्रव्यापी हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है। साधियों आपको पता है कि डाक कर्मचारियों की वर्षों से लम्बित पड़ी मांगों पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है, जिसमें प्रमुख रूप से एन.पी.एस. (NPS) को समाप्त कर ओ.पी.एस. (OPS) लागू करना तथा अठारह माह का डीए जारी कसा प्रमुख हैं।मुख्य रूप से विभिन्न राज्यों के एनपीएस (NPS) को समाप्त करने के लिए कर्मचारियों के लम्बे समय से आंदोलन चल रहे थे, इन कर्मचारियों ने हार नहीं मानी और आज परिणाम हमारे सामने है। कर्मचारियों के आंदोलन के आगे सरकारों को झुकना पड़ता है और कुछ राज्य सरकारों ने एनपीएस (NPS) को समाप्त कर दिया है और ओपीएस (OPS) लागू कर दिया है।  सभी डाक कर्मचारियों को अपनी विभिन्न राजनैतिक विचारधाराओं को अलग रखते हुये कर्मचारी हितों के लिए होनी वाली हड़ताल और विभिन्न आंदोलनों में भाग लेकर सरकार पर निरंतर दबाव बनाना होगा ताकि 2024 में होने वाले आम चुनावों के पूर्व केन्द्र सरकार को भी एनपीएस (NPS) को वापस लेने के लिए बाध्य होना पड़े।अतः पोस्टल जे.सी.ए. (JCA) का राजस्थान के सभी डाक कर्मचारियों से क्रांतिकारी आइवान है कि  28-29 मार्च 2022 को होने वाली राष्ट्रव्यापी हड़ताल में शामिल होकर इसे सफल बनायें और अपनी एकजुटता का परिचय देवें।मुख्य मांगे  नई पेंशन स्कीम (NPS) को समाप्त करे एवं पुरानी पेंशन स्कीम (OPS) लागू की जावे। जनवरी 2020 से जून 2021 तक के रोके गये डी.ए. और डीआर के एरियर का भुगतान किया जाये। > डाक विभाग के पोस्टल बैंक एवं डाक जीवन बीना का प्राईवेटाईजेशन / कॉर्पोराईजेशन रोका जावे। ग्रामीण डाक सेवकों को सिविल सर्वेन्ट का दर्जा दिया जाये तथा इनकी सेवा को रेगुलराईज किया जावे।  पदोन्नती में "Very good" Benchmark के रिमार्क की अनिवार्यता हटाई जावे, पूर्ण सेवाकाल में 5 MACP दी जावे एवं हटाया जाये।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp