लूणकरणसर पंचायत समिति सदस्यों ने सौंपा उपखंड अधिकारी को - Khulasa Online

लूणकरणसर पंचायत समिति सदस्यों ने सौंपा उपखंड अधिकारी को

खुलासा न्यूज़ बीकानेर लोकेश कुमार बोहरा। लूणकरणसर उपखंड अधिकारी को पंचायत समिति सदस्य महिपाल सिंह के नेतृत्व में पंचायत समिति सदस्यों ने अपने अधिकार और मांगों के लिए ज्ञापन सौंपा। पंचायत समिति सदस्य का कार्यकाल 5 वर्ष के लिए होता है लेकिन प्रधान के मतदान के उपरांत महत्व व औचित्य शुन्य हो जाता है। राजस्थान में हजारों सदस्य हैं अपने निर्वाचन क्षेत्र के विकास एवं मतदाताओं को किसी प्रकार की सुविधाएं प्रदान करने का अधिकार भी नहीं है। पंचायत समिति सदस्यों को किसी प्रकार के प्रशासनिक व वित्तीय अधिकार मिले हुए नहीं है। वह मात्र पंचायत समिति की साधारण सभा की कौरव पूर्ति करने के संसाधन मात्र होते हैं। पंचायत समिति की बैठक 6 माह में एक बार होती है जबकि पंचायत समिति सदस्यों का निर्वाचन क्षेत्र सरपंच से भी बड़ा होता है। मांगे निम्न प्रकार से हैं जो महिपाल सिंह ने ज्ञापन में बताया। सरपंच प्रधान वह जिला प्रमुख की भांति पंचायत समिति सदस्यों को भी प्रशासनिक अधिकार विभिन्न दस्तावेजों का सत्यापन प्रमाणीकरण करने का अधिकार देने के लिए विभागीय स्तर से प्रपत्र जारी किया जाए। अपने निर्वाचन क्षेत्र के विकास के लिए केंद्र व राज्यों के प्राप्त अनुदान राशि एसटीसी टीएफसी अन्य योजनाओं वैसे 50 सदस्य को दलगत राजनीति से ऊपर उठकर अपने निर्वाचन क्षेत्र में विकास करवाने हेतु निर्धारित अनुपात में राशि उपलब्ध करवाई जाए। अपने क्षेत्र पंचायत समिति मत्स्य विकास कार्य स्वीकृत करवाने के लिए संबंधित ग्राम पंचायत के सरपंच द्वारा प्रपत्र पांच दिए जाने की अनिवार्यता को हटाया जाए उसकी जगह पंचायत समिति सदस्य से प्रपत्र पांच के लिए जाने की स्वीकृति की जाए। मासिक मानदेय न्यूनतम ₹10000 स्वीकृत किया जाए। विकास कार्यों में उपयोगिता प्रमाण पत्र यूसी शीशी पर पंचायत समिति सदस्यों के हस्ताक्षर अनिवार्य किया जाए। शिलालेख पट्टी का पर 50 सदस्य का नाम लिखा जाए। महिपाल सिंह के साथ लूणकरणसर पंचायत समिति सदस्य राहुल पारीक, राकेश नायक, हुकमाराम प्रतिनिधि, गोपाल नाथ प्रतिनिधि साथ में थे।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp 26