>



खुलासा न्यूज बीकानेर। वन प्लस मोबाइल की बीकानेर में एजेंसी देने के नाम पर 13 लाख रुपए की ऑनलाइन ठगी का मामला सामने आया है। व्यास कॉलोनी में एकनंबर से क्टर निवासी सरजू नारायण व्यास ने बीकानेर में वन प्लस मोबाइल की एजेंसी और सर्विस सेंटर लेने के लिए गूगल से कंपनी के नंबर लिए औरबात की।बात करने वाले ने व्यास को विश्वास में लिया और अपने खाते में 13.13 लाख रुपए ट्रांसफर करवा लिए। बाद में स्विच ऑफ कर लिया। व्यासकॉलोनी पुलिस थाने में दर्ज करवाई एफआईआर में यूको बैंक के अधिकारियों पर पर भी मिलीभगत का आरोप लगाया गया है।परिवादी व्यास ने बताया कि उसने यूको बैंक के जरिये पांच बार में 13 लाख रुपए की राशि ट्रांसफर की थी। राशि वन प्लस टेक्नोलॉजी इंडिया प्राइवेटलिमिटेड बंगलुरू के नाम से ट्रांसफर की जानी थी, लेकिन बैंक ने चंडीगढ़ में किसी विकास गिरी के खाते में जमा करवा दी। मामले की जांच एसआई रूपाराम को सौंपी गई है।कई किस्तों में खाते में डलवाए रुपए
सरजू नारायण व्यास ने गूगल से नंबर लेकर कंपनी के प्रतिनिधि से बात की तो उन्होंने सीआरएम अमित जैन का नंबर दिया। उसने सबसे पहले 30 अप्रैलको रजिस्ट्रेशन के नाम पर 49 हजार रुपए खाते में ट्रांसफर करवाए। बाद में कहा गया कि शोरूम में 15 लाख रुपए का डेकोरेशन होगा और 10 प्रतिशत 1.50 लाख रुपए ले लिए।
माल की कीमत 9.50 लाख रुपए बताई और 20 प्रतिशत लैस कर 6.55 लाख रुपए और फिर सर्विस सेंटर के 3.60 लाख रुपए भी खाते में डलवा लिए।

ठगों ने इसके बाद भी पीछा नहीं छोड़ा और इंश्योरेंस के नाम पर एक लाख रुपए और ऐंठ लिए। व्यास ठगों के जाल में फंसते चले गए और कुल 13.13

लाख रुपए दे दिए। अंतिम बार एक लाख रुपए सात मई को दिए थे।