जेल में सुरंग पहुंचता है हर समान

बीकानेर। बंदियों के पास आये दिन बाहर का सामना मिलना किसी बड़ी वारदात होने की ओर इशारा करती है। ऐसे तो कहते है केन्द्रीय जेल में परिंदा भी पर नहीं मार सकता लेकिन बीकानेर केन्द्रीय जेल में तो बड़े बड़े मगरमच्छ अंदर घुस जाते है। बंदियों के पास से नशीले पदार्थ व फोन चाकू आये दिन छानबीन में मिलते है। सबसे बड़ी बात ये है कि सुरक्षा के कड़े बंदोबस्तों के बीच ये समान बंदियों के पास कैसे पहुंचता है। जेल में अगर किसी बंदी से मिलना हो तो कड़े सुरक्षा चक्र से होकर जाना पड़ता है लेकिन बंदियों के पास बड़ी ही आसानी से पहुंच जाता है। इससे ये प्रतीत होता है कि कही ना कही जेल में लगे पुलिसकर्मियों की मिलभगत के बिना ये समान अंदर नहीं जा सकता है। उनके द्वारा ये समान अंदर बंदियों तक पहुंच जाता है। तभी जेल के अंदर बैठे कुख्यात बंदी अंदर से ही व्यापारियों व अन्य को धमकाते रहते है। ऐसा ही मामला गुरुवार को सामने आया कि जेल में तलाशी के दौरान एक बंदी खेम सिंह की तलाशी ली तो उसके पास एक एंड्रायड फोन, एक कीपैड मोबाइल सिम चालू हालत में मिले। यह सामान मिलने पर सुरक्षाकर्मियों ने बंदी से पूछताछ की और अन्य बंदियों की भी गहन तलाशी ली गई। बाद में इस संबंध में जेल प्रशासन की ओर से आरोपी बंदी के खिलाफ बीछवाल थाने में मामला दर्ज कराया गया। उल्लेखनीय है कि पिछले माह तीस जुलाई को जेल में बड़ी तादाद में अवैध रूप से बेचने के लिए लाए गए बीड़ी, सिगरेट व तम्बाकू के बंडल मिले थे। इसे निर्माण कार्य में लगे ठेकेदार के सामान के बीच छिपाकर जेल में लाया गया था। यह मामला सामने आते ही जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया था। इस बारे में भी थाने में मामला दर्ज कराया गया था।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp