खुला बंदी शिविर का इंचार्ज नदारद, लगे गंभीर आरोप शिविर में शराब पार्टियां - Khulasa Online

खुला बंदी शिविर का इंचार्ज नदारद, लगे गंभीर आरोप शिविर में शराब पार्टियां

बीकानेर।बेलासर के खुला बंदी शिविर का इंचार्ज 16 घंटे तक नदारद रहा। इस दौरान कुछ बंदी नापासर के बाजार में जा पहुंचे। इसे लेकर जेल प्रशासन में हडकंप मच गया। अधीक्षक शाम को मौके पर पहुंचे तथा इंचार्ज को हटा दिया गया। चार बंदियों के विरुद्ध शिकायत मिलने पर उन्हें वापस जेल ले जाकर बंद करने के आदेश दिए गए हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि शिविर में शराब पार्टियां की जाती हैं। बेलासर की गोविंद गोशाला में खुला बंदी शिविर 2016 से चल रहा है। यहां 20 बंदी रखने की क्षमता है। मंगलवार की शाम को इंचार्ज की गैर मौजूदगी के में बंदियों के आचरण को लेकर ग्रामीण विरोध में उतर आए। ग्रामीणों ने बताया कि इंचार्ज रोहिताश मंगलवार दोपहर में लापता हो गया था। कई बार फोन किए। बार-बार यही कहता रहा कि आ रहा हूं, लेकिन पूरी रात नहीं आया। बुधवार को दोपहर बाद शिविर पहुंचा। सूचना मिलने पर के जेल अधीक्षक आर. अनंतेश्वर मौके पर पहुंचे। खुला बंदी शिविर का निरीक्षण किया। सरपंच प्रतिनिधि दीपाराम नायक सहित काफी संख्या में इकट्‌ठे हुए ग्रामीणों ने बंदियों के आचरण को लेकर रोष प्रकट किया। ग्रामीणों ने अधीक्षक को बताया कि इंचार्ज आम तौर पर नदारद रहता है। बंदी बाजार में चले जाते हैं। गोशाला की छत पर टहलते हैं। कुछ बंदियों के इंचार्ज की मिली भगत है। उन्हें घर तक जाने की छूट दी जाती है। शिविर में शराब पार्टियां होती हैं। इससे गांव का माहौल खराब हो रहा है। खुला शिविर में गलत आचरण वाले बंदियों को वापस जेल में शिफ्ट किया जा रहा है। इंचार्ज बदल दिया गया है। मामले की जांच की जाएगी।-आर. अनंतेश्वर, जेल अधीक्षक
error: Content is protected !!
Join Whatsapp