इस तरह निकाला जा सकता है दसवीं-बारहवीं का परिणाम - Khulasa Online

इस तरह निकाला जा सकता है दसवीं-बारहवीं का परिणाम

12वीं रिजल्ट, प्रैक्टिकल एग्जाम लेने की तैयारी में RBSE! 8वीं और 9वीं के मार्क्स से तैयार हो सकता है 10वीं का रिजल्ट, 12वीं में मिलेगा 10वीं-11वीं के मार्क्स का वेटेज; फाइनल फॉर्मूला कल तक संभव

जयपुर।  RBSE ने 10वीं और 12वीं का रिजल्ट बनाने का फॉर्मूला तैयार कर लिया है। इसके तहत 10वीं के स्टूडेंट्स को 8वीं और 9वी के एग्जाम में मिले मार्क्स के आधार पर ही मार्क्स मिल सकते हैं। 12वीं के स्टूडेंट्स को प्रैक्टिकल एग्जाम देना ही होगा। सोमवार को जयपुर में मार्किंग कमेटी की बैठक में इस तरह के प्रस्ताव तैयार किए गए हैं, जो अब शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा को सौंपे जाएंगे। इस कमेटी की मंगलवार को फिर से बैठक होगी। इसके बाद बाद अंतिम फैसला हो सकता है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबकि, 12वीं क्लास के ऑफलाइन प्रैक्टिकल लेने के लिए होम डिपार्टमेंट से अनुमति ली जाएगी। अगर होम डिपोर्टमेंट से स्वीकृति नहीं मिलती है तो ऑनलाइन एग्जाम CBSE के पैटर्न पर लिए जाएंगे। 12वीं में शेष अंक 10वीं और 11वीं के आधार पर दिए जाएंगे। इसके लिए CBSE की तरह सब्जेक्ट वाइज अंक को प्राथमिकता दी जाएगी। दरअसल, 12वीं के जिन स्टूडेंट्स को प्रमोट किया गया है, उन्होंने 10वीं की परीक्षा पूरी तरह दी है, जबकि 11वीं में अर्द्धवार्षिक परीक्षा दी है। ऐसे में 10वीं को अधिक वेटेज मिल सकता है। 12वीं में वेटेज के तौर पर प्रैक्टिकल और कुछ सेशनल मार्क्स ही होंगे।

10वीं के लिए इस तरह का प्रस्ताव 10वीं के स्टूडेंट्स को भी 8वीं बोर्ड और 9वीं के हाफ इयरली एग्जाम के आधार पर अधिकतम मार्क्स दिए जाएंगे। कुछ मार्क्स स्कूल की तरफ से दिए जाएंगे। यह विषय अध्यापक ने तीन महीने तक स्टूडेंट्स को जैसा समझा है, उसके हिसाब से या फिर कोई टेस्ट लिया है तो उस हिसाब से दे सकेंगे। ये तय है कि 10वीं में 10वीं के मार्क्स का ज्यादा महत्व नहीं होगा। दरअसल, 10वीं व 9वी के मार्क्स ही स्कूल के पास उपलब्ध हैं। 10वीं में किसी तरह का कोई एग्जाम हुआ ही नहीं। यहां तक कि तीन महीने स्कूल संचालन के बाद भी कोई एग्जाम तो दूर टेस्ट तक नहीं हुआ।

अभी फाइनल कुछ भी नहीं दरअसल, आज की बैठक में जिन मुद्दों पर चर्चा हुई। उन पर एक प्रस्ताव तैयार करके शिक्षा मंत्री गोविन्द डोटासरा को दिया गया है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक और मार्किंग कमेटी के अध्यक्ष सौरभ स्वामी इस मीटिंग के प्रस्ताव शिक्षा मंत्री को आज ही सौंप देंगे। ये प्रस्ताव शिक्षा मंत्री को उचित लगते हैं तो इन पर आगे काम होगा, अन्यथा नए सिरे से मेहनत की जाएगी। कमेटी के सभी सदस्यों को मंगलवार को भी जयपुर में ही रहने के निर्देश दिए गए हैं। कमेटी कल इस पर फिर से विचार करेगी। हालांकि यह तय माना जा रहा है कि 12वीं के स्टूडेंट्स को प्रैक्टिकल देने होंगे।

सभी 12 सदस्यों ने दी राय इस मीटिंग में माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी सहित सभी 12 सदस्य उपस्थित रहे। माध्यमिक शिक्षा निदेशालय, माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर के सचिव, जयपुर जिला शिक्षा अधिकारी, जयपुर के महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम स्कूल की प्रिंसिपल, निजी स्कूल प्रतिनिधि के रूप में राम निवास ढाका उपस्थित रहे।

error: Content is protected !!
Join Whatsapp