आरएसवी में साइबरक्राइम जागरूकता पर सेमिनार

 खुलासा न्यूज,बीकानेर। जय नारायण व्यास कॉलोनी स्थित आरएसवी हायर सेकेंडरी स्कूल के ऑडिटोरियम में आज  17 दिसंबर को साइबर क्राइम से बचाव विषय पर सेमिनार का आयोजन किया गया। इस सेमिनार मैं रोटरी क्लब के पूर्व अध्यक्ष  पुनीत हर्ष एडवोकेट एवं पूर्व अध्यक्ष रोटरी क्लब आनंद आचार्य उपनिदेशक महावीर इंटरनेशनल तथा श्री आदित्य स्वामी सीईओ आरएसवी ग्रुप ऑफ स्कूल ने विद्यालय की कक्षा 8 से 11 तक के 100 से अधिक विद्यार्थियों व अध्यापक-अध्यापिकाआ को अपने विचारों से अवगत करवाया एवं साइबर क्राइम के प्रति जागरूक किया। ओजस्वी वक्ताओं ने बताया कि बिना किसी व्यक्ति की जानकारी या अनुमति के उसके कंप्यूटर, मोबाइल, फेसबुक, व्हाट्सएप या अन्य किसी संसाधन जैसे अकाउंट आदि का उपयोग करना साइबर क्राइम की श्रेणी में आता है। अपनी बातों के माध्यम से व्यक्ति को अपनी और आकर्षित कर उससे संबंधित व्यक्तिगत जानकारी को प्राप्त करना फिशिंग चलाता है। फिशिंग का उपयोग कर व्यक्तियों के खातों से धन निकाल लेना अथवा विद्यार्थियों वा युवाओं को बरगला कर पथ भ्रमित करना भी फिशिंग की श्रेणी में आता है। जब आप किसी साइट का उपयोग कर रहे हैं तो उस पर स्वयं आने वाले मैसेज जो कि व्यक्ति को सहज ही आकर्षित कर लेते हैं SAPSM कहलाते हैं यह है ना चाहते हुए भी व्यक्ति को अपने कार्य से हटाकर अपनी और आकर्षित कर उसकी निजी जानकारी को प्राप्त करने का प्रयास करते हैं। इनसे बचने का सर्वात्तम उपाय इन्हें इग्नोर करना या इनसे दूरी बनाए रखना ही है। यदि आप किसी प्रकार के साइबर क्राइम के शिकार हो जाते हैं तो सेक्शन 65 के अंतर्गत 24 घंटे के अंदर जिले के पुलिस अधीक्षक के समक्ष उपस्थित होकर अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। साइबर क्राइम चाइल्ड पोर्नाेग्राफी एम साइबर आतंकवाद वर्तमान डिजिटल युग की सबसे बड़ी समस्या है। इसका सर्वात्तम उपाय है कि आधुनिक संसाधन जैसे कंप्यूटर, लैपटॉप आदि का निर्धारित उपयोग ही करना एवं उनके दुरुपयोग से बचना है। प्रत्येक व्यक्ति को ज्ञान होना चाहिए कि साइबर आतंकवाद में आजीवन कारावास की सजा चाइल्ड पोर्नाेग्राफी में 3 से 5 साल की सजा तथा 3 से 7 लाख का जुर्माना हो सकता है। विद्यार्थियों को विशेष रुप से सुझाव दिया गया की ऑनलाइन कक्षाओं को अटेंड करते समय अपने विद्यालय के निर्देशों का पालन करें अपनी आईडी को अन्य व्यक्ति से शेयर ना करें कुकीज से सावधान रहें तथा किसी भी ऐप को डाउनलोड करते समय उसके द्वारा चाही गई समस्त सूचनाओं को उपलब्ध करवाना आवश्यक नहीं होता जो परमिशन आपसे मांगी गई है उन्हें आप बाद में बंद भी कर सकते हैं इसकी जानकारी भी प्रदान की गई। आरएसवी के सीईओ आदित्य स्वामी ने विद्यार्थियों को सचेत किया की मोबाइल और कंप्यूटर का उपयोग एक निश्चित सीमा में रहकर ही करना उपयोगी होता है अत्यधिक उपयोग आंख, कान एवं मस्तिष्क के साथ-साथ अन्य कई समस्याओं का कारण भी हो सकता है। अतः मैं विद्यार्थियों को अत्यंत उपयोगी जानकारी प्रदान करने हेतु अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित कर उन्हें स्मृति चिन्ह भेंट किया गया।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp