थ्रेसर मशीन में किसान का आधा हिस्सा कुचला - Khulasa Online

थ्रेसर मशीन में किसान का आधा हिस्सा कुचला

श्रीगंगानगर। गेहूं निकालने के दौरान थ्रेसर में फंसने से किसान की मौत हो गई। चीख सुनकर किसान का परिवार और आस-पास के लोग दौडक़र गए। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। शव को निकालकर पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। हादसा श्रीगंगानगर के राजियासर इलाके का है।हादसा इलाके के गांव कानौर में सोमवार सुबह हुआ। करीब छह बजे से थ्रेशर से गेहूं निकालने का काम शुरू किया जाना था। काम करने कई किसान जुटे हुए थे। गाांव कानौर केहेतराम नायक ने भी रात को फसल की कटाई की। सुबह थ्रेसर से गेहूं निकालने के दौरान उसका आधा शरीर थ्रेसर में फंस गया। आसपास के किसानों ने थ्रेसर बंद करवाया लेकिन तब तक किसान की मौत को चुकी थी। गेहूं डाला तो खींचता चला गया सूरतगढ़ थर्मल चौकी इंचार्ज मोहम्मद असलम ने बताया कि सुबह हेतराम ने थ्रेसर में गेहूं डालना शुरू किया था। गेहूं मशीन में नहीं जा रहा था। हेतराम ने हाथ से दबाकर मशीन में प्रवेश कराने की कोशिश की। इस दौरान गेहूं के साथ उसके शरीर का ऊपर का हिस्सा भी मशीन में घुस गया। पास खड़े उसके साथी ने बचाने के लिए उसके पैर पकडक़र खींचनाचाहा लेकिन थ्रेशर के कारण वह दूर जा गिरा। आधा शरीर हो गया खत्म युवक हेतराम के शरीर का ऊपर का आधा हिस्सा तो थ्रेसर में बुरी तरह कुचला गया। नीचे का आधा हिस्सा पुलिस ने मोर्चरी में रखवाया है। शरीर के ऊपर के हिस्से के अंश और नीचे का हिस्सा पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया जाएगा। मृतक के भाई राजेंद्र कुमार ने बताया कि हेतराम के छह बच्चे हैं। वह खेती और दिहाड़ी-मजदूरी करके जीवन यापन करता था। उसके पांच बेटियां और एक पांच साल का बेटा है।
error: Content is protected !!
Join Whatsapp 26