बीकानेर में आबकारी अफसर लेते है बंधी!, एसीबी ने एक अफसर को रंगे हाथों दबोचा - Khulasa Online

बीकानेर में आबकारी अफसर लेते है बंधी!, एसीबी ने एक अफसर को रंगे हाथों दबोचा

खुलासा न्यूज, बीकानेर। घूसखोर अफसर को श्रीगंगानगर एसीबी ने रंगे हाथों दबोचा है। मामला हनुमानगढ़ के लिखमीसर के शराब ठेके से जुड़ा है। लखुवाली, पीलीबंगा निवासी हेतराम पुत्र चेतराम के नाम लिखमीसर में 2021-22 के लिए शराब की कंपोजिट दुकान आवंटित हो रखी है। हेतराम ने आबकारी के सहायक प्रहराधिकारी(असिस्टेंट पेट्रोलिंग ऑफिसर) के खिलाफ एसीबी में बंधी मांगने की शिकायत की। बताया गया कि आरोपी प्रतिमाह दो हजार रूपए की बंधी लेता है। एसीबी ने शिकायत का सत्यापन करवाया। आरोपी सहायक प्रहराधिकारी 52 वर्षीय होशियार सिंह पुत्र शेर सिंह निवासी करणपुरा, भादरा ने पिछले चार माह की बकाया बंधी 1500 प्रतिमाह के हिसाब कुल 6 हजार में सैटल की। 4 अक्टूबर को सत्यापन के वक्त हजार रुपए लिए। वहीं आज शेष पांच हजार रुपए लेते वक्त रंगे हाथों एसीबी के हत्थे चढ़ गया। बताया जा रहा है कि यह बंधी ठेका चलाने व अवैध ब्रांच चलने देने के बदले लेता था। परिवादी अवैध ब्रांच चलाता है या नहीं, यह भी जांच का विषय है। उल्लेखनीय है कि ट्रैप की यह कार्रवाई एसपी गगनदीप सिंगला के निर्देशन व उप अधीक्षक वेदप्रकाश लखोटिया के सहयोग से उपाधीक्षक भूपेंद्र कुमार सोनी मय पुलिस निरीक्षक विजेंद्र सीला, एएसआई हंसराज शर्मा, कांस्टेबल संजीव कुमार, कांस्टेबल भवानी सिंह, कांस्टेबल आशीष कुमार व कांस्टेबल सुबे सिंह की टीम ने की। बात की जाए बीकानेर की तो बीकानेर में भी आबकारी अफसर जो शराब ठेकेदारों से तीन-तीन हजार रूपए बंधी लेते है। ऐसी शिकायत शराब ठेकेदारों ने एसीबी में की है। जल्द ही एसीबी इस शिकायतों का सत्यापन करवाएगी। इस खबर की भनक लगते ही आबकारी अफसर सतर्क हो गए है।

 

ये है मामला परिवादी हेतराम को हनुमानगढ़ के आबकारी विभाग से वर्ष 2021-22 के लिए गांव लिखमीसर में शराब की कंपोजिट दुकान आवंटित हुई थी। इस दुकान का संचालन परिवादी और उसका दोस्त राकेश आजाद करते है। आबकारी थाना हनुमानगढ़ का कर्मचारी होशियारसिंह ठेका चलाने और अवैध ब्रांच के लिए दो हजार रुपए प्रतिमाह के हिसाब से चार माह की बंधी की मांग कर रहा था। इस पर परिवादी ने एसीबी को शिकायत दी। डीएसपी भूपेंद्र सोनी की देखरेख में ब्यूरो की टीम ने कार्रवाई शुरू की। सत्यापन के दौरान आरोपी होशियारसिंह 1500 रुपए प्रतिमाह लेने पर सहमत हो गया। सत्यापन के समय सोमवार को उसने एक हजार रुपए लिए और शेष पांच हजार रुपए मंगलवार को देना तय हुआ। मंगलवार को परिवादी हेतराम आरोपी होशियारसिंह को रुपए देने के लिए पहुंचा। इस दौरान एसीबी की टीम भी आसपास रही। आरोपी के मंथली बंधी राशि के पांच हजार रुपए लेते ही एसीबी ने उसे धर दबोचा।

 

error: Content is protected !!
Join Whatsapp