>


अलवर। पति-पत्नी के आपसी झगड़े ने 9वीं-10वीं कक्षा में पढ़ने वाले रमन (13) व तरुण (14) को अनाथ बना दिया। 14 दिन पहले इनके दादा की मौत हुई थी। सोमवार की रात मां-बाप भी दुनिया छोड़ गए। रमन के पिता व पूर्व सैनिक 45 वर्षीय शुभराम जाट ने सोमवार की रात अपनी लाइसेंसी पिस्टल से पहले पत्नी को गोली मारी। फिर खुद को। दोनों के सिर में गोली लगी। कुछ ही मिनट में दोनों की मौत हो गई। सीएचसी खैरथल से मंगलवार सुबह दोनों का पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंपा गया। यह घटना जिले के गांव हासपुर कलां की है।

झगड़े का कारण पता नहीं चला
शुभराम का उसकी पत्नी से रात्रि करीब साढ़े नौ बजे के आसपास झगड़ा होने की बात सामने आई। झगड़े का कारण पता नहीं चल सका है। रात 10 बजे के बाद पुलिस को वारदात की जानकारी हुई। इसके बाद दोनों को अस्पताल लेकर जाया गया। यहां डॉक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया।

2 दिन पहले ही मनाया था दादा का बारवां
माता-पिता की मौत के बाद घर में अब दो मासूम भाई रमन (13) और तरुण (14) ही बचे हैं। इनका रो-रोकर बुरा हाल हो गया। करीब 14 दिन पहले ही रमन और तरुण के दादा का निधन हो गया था। जिनका 2 दिन पहले ही 12वां मनाया गया था।

दादी के पास सो रहे थे दोनों भाई
दादा की मौत से परेशान दोनों भाई रमन और तरुण अपनी दादी के पास ही सो रहे थे। तीनों घर के दूसरे कमरे में थे। इस बीच गोली की आवाज सुनकर माता-पिता के पास पहुंचे तो वो खून से लथपथ पड़े हुए थे।